Thursday, 4 April 2019

एक फ़कीर और लाखों का सूट: मन की बात



बात की बात, बात का बतंगड़ और अब मन की बात पाँच सालों में भारतीय राजनीति ने  कुछ दिया हो या ना दिया हो हमारे प्रधानमंत्री ने मन की बात खूब की है. ये लोकतंत्र का दस्तूर है पाँच साल नेता कहेंगे और जनता सुनेगी लेकिन उपर वाले के घर में देर है अंधेर नहीं. पांच  सालों के बाद कुछ दिन जनता कहती है और नेता सुनते है. यही दिन आजकल चल रहें है.
अब देखिये ये कोई पड़ोसी शर्मा जी तो हैं नहीं जो रोज नुक्कड़ पर मिल जाएँ, ना ही कालोनी के गेट पर बावस्ता चौकीदार जो रोज सैलूट ठोके. ये तो ठहरे पक्के निराकारी. निराकार ब्रह्म जिनके पास एक फकीर वाला झोला भी होता है. पन्द्रह लाख के सूट पर फकीर का झोला, लाखों के मशरूम का भोग. क्या कहें साहिब सबके मित्र इनके चर्चे विचित्र. प्रतिभा इतनी विलक्षण की इनकी सरकार में कानपुर में सैकड़ों बच्चे बिना ऑक्सीजन मर गये लेकिन इनको इसमें भी नेहरू का कारनामा दिखा. सत्तर सालों में क्या हुआ सब दिखता है इनको.
नमो! नमो! इनके पास भक्तों की एक फ़ौज है, जिसकी आत्ममुग्धता देखो, कुछ तो यह कह देते हैं कि इसी निराकारी फकीर ने अंग्रेजों को भारत से खदेड़ा है. हाँ ये फकीर एक मार्गदर्शक मंडल भी रखते हैं लेकिन उसका हाल बीड़ी के बंडल से भी गया गुजरा है. "अथातो घुम्मकड जिज्ञासा" "बिरयानी का शौक", "माँ का त्याग", "पत्नी का त्याग" क्या नहीं है इस निराले फकीर के पास.

पाँच साल पहले "चाय पर चर्चा" के बाद अब "चौकीदार चौकन्ना" नया अवतार है, वैसे भी ये देश में अवतार आम बात है. एक ख़ास बात भगवान राम के नाम पर सत्ता में आये थे, लेकिन फकीर तो राम के नाम पर चाय वाले से चौकीदार बन गया. हाफ पेंट से पन्द्रह लाख के सूट तक का सफर तय कर गया लेकिन भगवान राम टेंट में ही हैं.राम के भक्तों से ज्यादा इस वक्त इस फकीर के चेले बताये जाते है. सबका साथ सबका विकास ये इनका मूल वाक्य है, और इस पर साहिब खरे भी उतरे हैं. अम्बानी, अदानी, नीरव, सुशील मोदी, माल्या जैसों का साथ और विकास की कई कहानियाँ इनके इर्द गिर्द बुनी जाती है. इस पाँच साली चुनावी कुम्भ में ये फकीर क्या नये नये अवतार लेंगें ये देखना है, इनकी सेना भी है, जिसे दुनिया की सबसे शक्तिशाली सेना इनके भक्त कहते हैं.
वैसे इस देश में ये अकेले नहीं हैं इनके जैसे कई अवतार हैं जिनकी फेहरिस्त लम्बी है. 

Sunday, 10 March 2019

लोकसभा का दंगल कब, और कैसे?


लोकतंत्र का सबसे बड़ा पर्व लोकसभा चुनाव जल्द ही होने हैं। सभी सियासी दलों की धड़कनें तेज हैं, जनता को रिझाने के लिए कई कोशिश की जा रही हैं, कोई राफेल में भ्रष्टाचार पर अपनी गुगली फेंक रहा है तो वहीं कोई सेना और जवानों के कंधे पर बंदूक रख चुनाव जीतना चाह रहा है। सभी सियासी दलों और देश की जनता को चुनावों के घोषणा का इन्तजार है।
आज शाम 5 बजे तक चुनाव आयोग अगले लोकसभा चुनावों के लिए कार्यक्रम का ऐलान कर सकता है। आज शाम 5 बजे विज्ञान भवन में चुनाव आयोग की प्रेस कॉन्फ्रेंस होगी।
लोकसभा चुनाव के साथ ही 5 राज्यों आंध्रप्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम, ओडिशा और जम्मू-कश्मीर के विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान भी हो सकता है. लोकसभा के चुनाव 7 से 8 चरणों में हो सकते हैं।

चुनाव आयोग की भाजपा को लंगडी

अभी लोकसभा चुनावों की घोषणा हुई नहीं है, लेकिन राजनैतिक दल प्रचार के नये हथकंडे ढूढने लगे हैं. इस सब में भाजपा सबसे आगे है, प्रधानमंत्री मोदी पिछले कुछ दिनों से जबर्दस्त चुनावी मोड में आ गये हैं. हाल ही में हुयी एयर स्ट्राइक के बाद तो भाजपा ने सैनिकों के नाम पर खुली राजनीति शुरू कर दी है.
बैनर या पोस्टर या फिर मंच हर जगह सैनिकों की शहादत और वीरता का प्रचार सरकार के नाम के साथ जोड़ कर किया जा रहा है. इस पर रक्षा मंत्रालय ने चुनाव आयोग को पत्र लिख कुछ राजनितिक दलों के द्वारा सैनिकों के नाम और फोटो का इस्तेमाल चुनाव प्रचार में करने की शिकायत की थी.
चुनाव आयोग की ओर जारी बयान में कहा गया है कि रक्षा मंत्रालय की ओर से यह संज्ञान में लाया गया था कि कुछ राजनीतिक दल सुरक्षाबल के जवानों की फोटो का इस्तेमाल चुनाव प्रचार और राजनीतिक प्रोपेगेंडा के लिए कर रहे हैं. कई शहीदों के परिवार ने भी नेताओं से ऐसे किसी प्रचार से बचने का निवेदन किया था.
इसी का संज्ञान लेते हुए चुनाव आयोग ने सभी राष्ट्रीय और क्षेत्रीय दलों को पत्र लिख जवानों के फोटो का इस्तेमाल ना करने निर्देश जारी किया है. चुनाव आयोग की यह एडवाइजरी राजनीतिक दलों को सतर्क करने के लिए जारी की गई है. इसमें कहा गया है कि सुरक्षाबल देश की सीमाओं, क्षेत्र और पूरे राजनीतिक तंत्र के प्रहरी हैं. लोकतंत्र में उनकी भूमिका निष्पक्ष और गैर राजनीतिक है. इसी वजह से जरूरी है कि चुनाव प्रचार में सुरक्षाबलों का जिक्र करते हुए राजनीतिक दल और राजनेता सावधानी बरतें.
Courtesy: Google Search 
पुलवामा आतंकी हमले के बाद से भाजपा नेताओं के कई मंचों पर शहीद जवानों के फोटो लगाए गए थे. इसके बाद वायु सेना के पायलट अभिनंदन की फोटो का इस्तेमाल भी चुनावी पोस्टरों और सोशल मीडिया कैंपेन में हो रहा है. ऐसे प्रचार पर कुछ दलों ने आपत्ति भी जताई थी और आयोग से इसकी शिकायत करने की बात भी कही थी. भाजपा ने तो मोदी और अमित शाह के साथ "मोदी है तो मुमकिन है" जैसे नारों के साथ कई होर्डिंग देश भर में लगाएं हैं. 
चुनाव आयोग के इस निर्देश को कितने दल मानते हैं पता नहीं. आयोग ने साफ़ कहा है कि आचार संहिता लागू होने के बाद ऐसे किसी भी मामले में कार्रवाई की जायेगी. 

Saturday, 9 March 2019

सोनिया, राहुल, प्रियंका, अगला कौन!

आजादी के बाद से ही देश की राजनीति एक परिवार के चारों ओर घूमती रही है, वैसे तो कांग्रेस ने आजादी के आन्दोलन या उसके बाद भी कई बड़े नेता देश को दिए हैं लेकिन सत्ता का मध्यबिंदु नेहरू गांधी परिवार ही रहा है. चाहे सत्ता में हो या फिर सत्ता से बाहर राजनीति इसी परिवार के इर्द गिर्द घूमती है.
देश में दो प्रकार का मानस ही है एक वो जो इनके साथ है और दूसरा वो जो इनके खिलाफ है. पिछले पांच वर्षों में कांग्रेस ने काफी कुछ गवांया है. आज कांग्रेस के पास अपनी कोई पुख्ता जमीन नहीं है लेकिन सत्ताभोग कर रही भाजपा और प्रधानमन्त्री मोदी ने रोज इस परिवार का जाप किया है. उनकी असली लड़ाई ये साबित करने की रही है कि इस परिवार ने देश को लूटा है. नेहरू से लेकर अब प्रियंका को भाजपा और उसके दिग्गज लगातार निशाना बना रहें हैं. इसका मतलब क्या है? जनता को समझना होगा.
इससे पहले एक ताजे वाकये पर भी विचार करते हैं, पिछले पांच सालों में देश की राजनीति में एक नाम और उभरा वो है अरविन्द केजरीवाल, कोई अरविन्द को आन्दोलन या संघर्ष की पैदायश कहे लेकिन ये सच है कि कांग्रेस के खिलाफ मोर्चा खोल  के ही अरविन्द यहाँ तक पहुँच पाया, कांग्रेस  की कमजोरियों के बल पर दिल्ली में प्रचंड बहुमत पाने अब कांग्रेस की गोद में छुपने के लिए प्रलाप कर रहें हैं, ये कांग्रेस की असल ताकत है.
कांग्रेस कभी सत्ता के शॉर्टकट पर विश्वास नहीं करती है, उसे मालूम है कि देर या सबेर राजनीति का सूरज उसके आँगन में आना ही है.
हाल में पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में 3 राज्यों में भाजपा को हटा सत्ता में लौटी कांग्रेस ने कहीं कोई अति नहीं की, वो जानते हैं लोकतंत्र में सत्ता आती जाती रहती है, बस अस्तित्व बनाए रखें. अब आते हैं नेहरू गांधी खानदान के वर्तमान प्रवर्तकों पर, सोनिया गांधी पूर्व प्रधानमन्त्री राजीव गांधी की पत्नी उनके साथ विरोधियों ने कई गंदे और भद्दे अलंकार जोड़े लेकिन सोनिया बिना किसी विरोध किये अपना काम करती रही. सोनिया को कभी किसी ने आक्रामक होते नहीं देखा लेकिन कांग्रेस को बनाए रखने में उनकी भूमिका काफी महत्त्वपूर्ण है.  राहुल गांधी जिनके बारे में मोदी जी भी रोज टिप्पणी करते हैं कई बार दिन में मोदी जी राहुल को मंदबुद्धि कहते हैं. लेकिन राहुल भी सोनिया की तर्ज पर शांत राजनीति पर विश्वास करते हैं, लेकिन कुछ समय से उन्होंने आक्रामक तेवर इख्तियार किये हैं, लगता है राहुल इस बात को समझ गये हैं कि किसी झूठ को बार बार जोर से बोला जाय तो जनता उसे सच मान लेती है. खैर अब कांग्रेस में एक नयी ऊर्जा दिख रही है राहुल कि लोकप्रियता जनता में तेजी से बढी है.

प्रियंका वाड्रा अभी सक्रिय राजनीति में आयी हैं इसका मतलब ये नहीं कि वे राजनीति में फिद्दी होंगी, प्रियंका की स्वीकार्यता जनता और पार्टी में किसी भी नेता के मुकाबले ज्यादा है, उनके आने के बाद कांग्रेस का स्लीपिंग वोटर भी जागा है, पुराने टोपी लगाने वाले बुजुर्ग नेता और कार्यकर्त्ता भी चार्ज हुए हैं. लेकिन कांग्रेस की अगली पौध कहाँ से आयेगी ये बड़ा सवाल है, अगला कौन?

Thursday, 7 March 2019

चौकीदार चौकन्ना है और राफेल की फाइलें गुम हो गयी

जल्द ही अगली लोकसभा के चुनाव होने हैं ऐसे में सियासी घमासान तेज हैं. एक ओर भाजपा खडी है दूसरी ओर समूचा विपक्ष. पिछले पांच सालों में भाजपा और मोदी शाह की टीम ने राजनीति को शह और मात का खेल बना दिया है.
लोकतंत्र में आज सवाल करना एक अपराध और देश द्रोह माना जा रहा है. अब जब खुद भारत सरकार या सीधे शब्दों में कहें चौकन्ने चौकीदार की सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में ये माना है कि राफेल की सीक्रेट फाइल चोरी हो गयी हैं. ये बात कोर्ट में अटोर्नी जर्नल वेणुगोपाल ने कही है.
सुप्रीम कोर्ट में वेणुगोपाल कहते हैं कि इसकी जांच हो रही  है कि फाइल कैसे चोरी हुयी हैं. वेणुगोपाल सुप्रीम कोर्ट में जब ये कहते हैं कि, "यदि अब सीबीआई को जांच के निर्देश दिए जातें हैं, तो देश को भारी नुकसान होगा".
सुप्रीम कोर्ट में दायर पुनर्विचार याचिकाओं में आरोप लगाया गया है कि सुप्रीम कोर्ट ने जब राफेल सौदे से सम्बन्धित फैसला सुनाया था तो सरकार की ओर से कई तथ्यों को छुपाया गया था. जब प्रशांत भूषण ने हिन्दू में छपे एक लेख का हवाला दिया तो वेणुगोपाल ने कहा ये लेख चोरी कि गयी फाइल के आधार पर लिखा गया है और इस मामले की जांच जारी है.

यहाँ देखने वाली बात ये है कि विपक्ष विशेषकर कांग्रेस लगातार राफेल सौदे को लेकर सवाल उठा रही है. मोदी जी बार बार जनता के बीच इसे एक षड्यंत्र बता रहे हैं. लेकिन अब जब अटॉर्नी जरनल वेणुगोपाल खुद इस बात को स्वीकार कर रहे हैं कि दस्तावेज गायब हैं तो भाजपा इसे सियासी षड्यंत्र बता रही है. अब वेणुगोपाल खुद इस सियासी षड्यंत्र में शामिल हैं या फिर कांग्रेस के आरोप सही हैं. ये बात जनता को ही समझनी होगी.
(नेशनल न्यूज कॉज )

Wednesday, 23 May 2018

MobiiStar आज लांच करेगी अपने स्मार्टफोन लेकिन खरीदना मत बस कूड़ा है

मत खरीदना ये मोबाइल कूड़ा है।
स्मार्टफ़ोन हाथ में हो और सेल्फी ना हो ये संभव नहीं है. आज सेल्फी किसी भी मोबाइल का एक बड़ा फीचर बन गया है. एक वियतनामी कंपनी MobiiStar भी अपने सेल्फी सेंट्रिक स्मार्टफ़ोन MobiiStar XQ और CQ भारतीय बाजार में लेकर आ रही  है. जिसके कुछ लीक्स मिले हैं, उनके अनुसार स्मार्टफोन में स्नैपड्रैगन का प्रोसेसर होगा XQ SANPDRAGON 430 CQ 425 के साथ आ रहा है।
Picture From Google 

जैसा कि कम्पनी का दावा है कि फ़ोन से शानदार सेल्फी मिलेगी तो लगता है कैमरा सेगमेंट में कुछ विशेष फीचर जरूर मिलेंगे. कम्पनी बजट रेंज में दमदार फोन लाने का दावा कर रही है, यहाँ इस समय बजट रेंज मोबाइल फोन की बड़ी रेंज मार्केट में उपलब्ध है, ऐसे मैं हर सेगमेंट में कुछ ख़ास फीचर लाकर ही इस कम्पटीशन में टिक पाना संभव होगा. वैसे जो जानकारियाँ मिल रही है Mobiistar 6,000 से 10,000 की कीमत में अपने फोन मार्केट में उतार सकती है.


कम्पनी 23 मई को दिल्ली में पहला स्मार्टफोन लौंच करेगी. फ़ोन की असेम्बली देश में ही कि जायेगी और ये फोन फ्लिपकार्ट पर ऑनलाइन उपलब्ध होगा जैसा कि फ्लिपकार्ट की साईट पर दिख रहा है. फ्लिपकार्ट पर जो इनफार्मेशन हैं उनमें ग्रेट सेल्फी कैमरा, फ़ास्ट स्नैपड्रैगन प्रोसेसर, लॉन्ग लास्टिंग बैटरी और आकर्षक मूल्य हैं. अब देखना ये है कि बजट और सेल्फी सेक्शन में कम्पनी क्या नया करती है.
आपका अगला ब्लॉग पोस्ट जिसमें फ़ोन से सम्बन्धित सभी जानकारियाँ होंगी आज शाम 9 बजे तक मिलेगा. MobiiStar पर एक डेडिकेटेड विडियो आपको हमारे YouTube चैनल पर भी मिलेगी.


Wednesday, 7 February 2018

प्लास्टिक या लैमिनेटेड आधार कार्ड से चोरी हो सकता है आपका डेटा



Picture: Google Search 
आधार को लेकर तमाम बातें कहीं जाती हैं, कई बार सुरक्षा को लेकर भी सवाल उठते रहें हैं अब खुद आधार अथॉरिटी ने कहा प्लास्टिक या पीवीसी पर प्रिंट कार्ड से आपकी आधार से जुडी जानकारियाँ चोरी की जा सकती हैं, इसके अलावा लेमिनेशन या पीवीसी प्रिंट होने पर कार्ड पर छपे QR कोड को रीड करना कठिन हो सकता है. इससे पहले भी आधार डाटा लीक होने या थर्ड पार्टी ट्रान्सफर होने की खबरें आती रही हैं. लेकिन सरकार इस प्रकार किसी संभावना से लगातर इनकार करती रही है.
लेकिन जिओ और एयरटेल जैसी कम्पनियों पर आधार दुरूपयोग के आरोप लगे हैं और एयरटेल ने तो सिम वेरिफिकेशन के नाम पर कई ग्राहकों के बैंक अकाउंट उनकी इजाजत बिना खोल दिए हैं, जिसके कारण आधार अथॉरिटी ने एयरटेल के आधार लिंक के अधिकार को कुछ समय तक के लिए सस्पेंड कर दिया था.
इसलिए अपने आधार कार्ड को ना ही लेमिनेट करवाएं और भूलकर भी उसे प्लास्टिक या पीवीसी पर प्रिंट ना करवाएं. 

Monday, 5 February 2018

आधार रखें अपडेट नहीं तो भविष्य में हो सकती है परेशानी

नई दिल्ली, आधार आज जिंदगी की संख्या बन चुका है, बैंक एकाउंट हो या फिर सिम कार्ड, पेंशन हो एक आकादमिक रिकार्ड्स सभी को आधार से जोड़ा जा रहा है। आधार एक यूनिक बायोमेट्रिक तकनीक है। जिसे हर व्यक्ति का व्यक्तिगत परिचय है। मात्र एक अंगूठे के वेरिफिकेशन से कई कार्य किये जा सकेंगे। 


लेकिन कई बार आधार की जानकारी अपडेट ना होना आपके लिए परेशानी का सबब बन सकता है। बिना आधार ना आप गैस की सब्सिडी ले सकते हैं, ना ही बैंक एकाउंट खुलवा सकते हैं। अब तो नर्सरी से लेकर कॉलेज तक बिना आधार के कुछ नहीं हो सकता है। 
अब भी तमाम लोगों के आधार में कई जानकारियाँ पूरी नहीं है कहीं नाम सही नहीं है, कई लोगों के आधार से फोन नंबर नहीं जुड़ा है ऐसी स्थिति में आप आधार डाउनलोड या उसमें कोई परिवर्तन बिना ओटीपी नहीं कर पाएंगे। अब आपको बताएं क्या आधार से लिंक नहीं होने पर आपको पेनाल्टी भी देनी पड़ सकती है? जी हाँ यदि आपने अपने आधार से पैन कार्ड नहीं जोड़ा है तो आपको हर वित्तीय वर्ष के अनुसार रूपया 10,000 पेनाल्टी देनी पड़ेगी।
इसके अलावा अलग अलग संस्थाएं आधार कार्ड से लिंक ना होने पर आपको बड़ी पेनाल्टी लगाई जा सकती है। अब नए पैन कार्ड के लिए अप्लाई करते समय आपको आधार संख्या को देना जरूरी कर दिया है। इनके अलावा म्यूच्यूअल फण्ड, बीमा, फिक्स डिपाजिट के साथ भी आधार देना पड़ेगा। कई एप जैसे digilocker जिसे आप प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं को भी आधार से जोड़ना जरूरी है। इसके अलावा एक अन्य सरकारी एप्प जो प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते है वह है "उमंग" इस एप्प के जरिये आप आधार से लिंक हो कई सरकारी योजना से जुड़ सकते हैं, जैसे गैस बुकिंग, पेंशन योजनाएं आदि। एक ऐप के जरिये कई कामों को एक साथ करने का ये सबसे आसान तरीका है। आधार अंक से आप किसी भी UPI एप के जरिये फण्ड ट्रांसफर भी कर सकते हैं, ऐसा करने के लिए आपको बैंक से सम्बंधित कोई डिटेल्स नहीं देने होते हैं।
अब सवाल ये है कि आधार अपडेट कैसे करें? इसके दो तरीके हैं, एक तो आधार केंद्र जाइये या फिर ऑनलाइन लेकिन ऑनलाइन आप केवल पता और ईमेल एड्रेस ही अपडेट कर सकते हैं लेकिन इसके लिए आपको एड्रेस प्रूफ के लिए निर्धारित दस्तावेज अपलोड करने होंगे। आधार केंद्र से आप जन्मतिथि, नाम, पता या पिता का नाम भी संशोधित कर सकते हैं। इसके लिए आपके सभी बॉयोमेट्रिक पुनः लिए जाएंगे, आपकी फ़ोटो भी ली जाएगी। इस अपडेट के बाद आपको एक एनरोलमेंट आईडी दी जाएगी, जिसके बाद अपने नए अपडेट कार्ड को डाउनलोड कर सकते हैं।

Monday, 8 January 2018

कौन कहता है, ऑनलाइन पेमेंट सिक्योर है?

ऑनलाइन पेमेंट मतलब सिक्योर पेमेंट ऐसा कहा जाता है। लेकिन एटीएम पिन उड़ा कर या ओटीपी जानकर आपके खाते से पैसे उड़ाने की घटनाएं भी आम हैं। आये दिन ये खबरें आती हैं कि फलां आदमी ऑनलाइन फ्रॉड का शिकार हुआ। यहीं नहीं ऑनलाइन वॉलेट भी सुरक्षित नहीं है, आपकी जरा सी लापरवाही आपकी मेहनत पर पानी फेर सकती है। अभी हाल ही में paytm वॉलेट से पैसे उड़ाए जाने की कुछ घटनाएं शामिल हैं। इसके अलावा ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर करने के नाम पर भी कई धोखाधड़ी की घटनाएं होती हैं, ऐसा तब होता है जब आप किसी एजेंट के माध्यम से किसी अन्य एकाउंट में पैसे ट्रांसफर करवाते हैं। यहां एजेंट किसी और एकाउंट में पैसे ट्रांसफर करता है, बकायदा आपके मोबाइल पर इस बात का मैसेज भी आता है कि पैसे ट्रांसफर हो गया है लेकिन आप कभी ये नहीं देखते हैं कि किस एकाउंट में पैसा ट्रांसफर हुआ है। जब आपको इस ठगी का पता चलता है तो आप एजेंट के पास जाते हैं तो एजेंट का सीधा उत्तर होता है, आपने जो डिटेल दी उसके अनुसार ही उसने पैसे जमा किये हैं। ऐसे में आपके पास करने को कुछ खास नहीं बचता है। इसलिए जब भी आप किसी के एकाउंट में इन एजेंट्स के जरिये पैसे जमा करवाएं तो ध्यान दे एकाउंट होल्डर का नाम क्या डाला जा रहा है, बैंक का नाम और कोड पर भी ध्यान दें। साथ ही जो रकम ट्रांसफर करनी है उसका अमाउंट भी अवश्य देख लें। हो सके तो ट्रांसफर मेसेज आते ही जिसके एकाउंट में पैसा डाला है उससे मालूम कर लें कि सही राशि उसके एकाउंट में ट्रांसफर हुई है या नहीं, जो राशि जमा होगी उसका SMS अकॉउंट होल्डर को भी मिल जाएगा। बिना कंफेरमशन के एजेंट का काउंटर ना छोड़े।

Saturday, 6 January 2018

डी एल एड किससे लें सही जानकारियां

प्राइवेट स्कूलों में पढ़ाने वाले अप्रशिक्षित अध्यापकों के लिए 2 वर्षीय डी एल एड का कोर्स करना अनिवार्य हो गया है। जिसके चलते हजारों प्राइवेट स्कूल अध्यापकों ने इसके लिए NIOS नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओपन स्कूलिंग के माध्यम से अप्लाई किया है। लेकिन अब आगे असाइनमेंट्स, स्टडी सेंटर को लेकर सही जानकारियाँ लोगों को नहीं मिल पा रही है। रोज नए अपडेट के आने के कारण रजिस्ट्रेशन करवाने वाले अध्यापक काफी असमंजस की स्थिति में हैं NIOS के द्वारा हर राज्य में क्षेत्रीय केंद्र की स्थापना की है, हर केंद्र पर कोऑर्डिनेटर नियुक्त हैं लेकिन फिर भी सही जानकारी के अभाव में लोग परेशान हैं। ज्यादातर अध्यापकों को इसके बारे में जानकारियां भी नहीं कि उन्हें सही जानकारियां कहा से लेनी हैं। 
कई अध्यापक तो इसके रजिस्ट्रेशन करवाने के बाद इसे कैंसिल भी करवा रहे हैं। सालों से स्कूलों में पढ़ा रहें अध्यापकों को अब किसी प्रशिक्षण की क्या आवश्यकता पड़ गयी है? किसी के पास इसका जवाब नहीं है। सारे देश की तरह उत्तराखण्ड में भी यही हालात है यहां क्षेत्रीय केंद्र देहरादून है। जिसकी वेबसाइट www.rcddn.nois.ac.in है इसके अतिरिक्त यहां स्टेट कॉर्डिनेटर सीमा जौनसारी का मोबाइल न. 7533830222 भी दे रहे हैं जहां से डी एल एड के बारे में पूरी जानकारी ली जा सकती है। इसके अतिरिक्त देहरादून केंद्र निदेशक श्री प्रदीप कुमार रावत से भी मोबाइल 9410373391 जानकारियां ली जा सकती हैं।

क्या 7 जनवरी को बंद हो जाएगा आपका सिम

आजकल कई मोबाइल पर एक मैसेज लगातार आ रहा है कि आपका वर्तमान न. 7 जनवरी से बन्द हो सकता है। इससे कई लोग परेशान हैं, मेसेज में कहा जा रहा है आप यूनिक आइडेंटिटी कोड जेनेरेट कर अपने मोबाइल सिम को दूसरे सर्विस प्रोवाइडर के पास पोर्ट करवा लें। इसमें किसी सर्विस प्रोवाइडर का नाम नहीं दिया गया है। तमाम मोबाइल यूजर को ऐसा मेसेज मिल रहा है। अब बात करते हैं इस मैसेज की सच्चाई कि, ये मेसेज सर्विस मेसेज की तरह आ रहा है, मतलब किसी न. से नहीं आ रहा है, इसलिए कुछ लोग इसे सही मान रहे हैं। इस बारे में सोशल मीडिया पर भी जोरदार चर्चा है।
कई यूजर्स ने ट्वीटर पर अपने सर्विस प्रोवाइडर को ट्वीट कर इसके बारे में पूछा है। सभी सर्विस प्रोवाइडर ने इसे झूठा मेसेज बताया है और कहा है कि ऐसी किसी भी अफवाह पर ध्यान ना दें। बड़ी बात ये है कि इतनी बड़ी तादात में ये मेसेज लोगों के मोबाइल के सर्विस इनबॉक्स तक कैसे पहुंच रहा है। इसका जवाब किसी टेलीकॉम प्रोवाइडर के पास नहीं है ना ही इस मैसेज को फैलने से रोका जा रहा है।

Wednesday, 3 January 2018

अब आपके फोन में होगा पैनिक बटन, दबाओ पुलिस हाजिर

नए साल 2018 में मोबाइल फोन पर पैनिक बटन मिलेगा। इसे दबाते ही आपातकाल में सीधे पुलिस से संपर्क किया जा सकेगा। डिपार्टमेंट ऑफ टेलिकम्युनिकेशन ने जनवरी 2017 से ही मोबाइल कंपनियों को फोन के साथ पैनिक बटन जोड़ने को कहा था लेकिन एक साल बाद तक भी इस पर कोई काम नहीं हो पाया। डिपार्टमेंट ऑफ़ टेलिकम्युनिकेशन ने न्यूमेरिक की 5 या 9 को पैनिक की बनाने की बात कही थी। ये कदम महिलाओं की सुरक्षा को लेकर उठाया जाना था। कल केंद्रीय महिला और बाल विकास मंत्री मंत्री मेनका गांधी ने बताया कि एक पायलट प्रोजेक्ट के तहत फोन पर पैनिक बटन की टेस्टिंग की जाएगी। इसे के चरणों में लागू किया जाएगा। टेस्टिंग के लिए इसे 26 जनवरी 2018 से उत्तर प्रदेश में लागू किया जाएगा। अगर ये यहां सफल रहा तो चरणबद्ध तरीके से अन्य राज्यों में  भी लागू किया जाएगा। लेकिन यहां देखने वाली बात ये है कि क्या इससे पुलिस की कार्यक्षमता बढ़ेगी। अभी देखा जाता है कि कई बार पुलिस सूचना मिलने के लंबे समय बाद घटना स्थल पर पहुंचती है। यहां ये पैनिक बटन भी पुलिस तक सूचना ही पहुंचाएगा, इसके पास एक्शन करने या करवाने का कोई तरीका नहीं होगा। 

Friday, 29 December 2017

2018 फोल्डिंग स्मार्टफ़ोन और AI का होगा जलवा

साल 2017 जा रहा है, सन् 2018 के आगाज की तैयारी हो रही है। 2017 में मोबाइल की दुनिया बिल्कुल बदल गयी जियो के 4G वोल्टे सर्विस के साथ देश में इन्टरनेट की पहुंच आम आदमी तक हुई। फ्री कालिंग के साथ अनलिमिटेड डेटा देकर देश में डिजिटल क्रांति का बिगुल जियो ने बजा ही दिया। इसके अलावा AI यानि आर्टिफीसियल इनटेलीजेन्स से जुड़े कई अपडेट देखने को मिले। 2018 में यही आर्टिफीसियल इनटेलीजेन्स कुछ नए प्रोडक्ट लेकर आएगी। मोबाइल डिवाइस में भी ड्यूल कैमरा, बेजललैस स्क्रीन के अलावा 18×9 आस्पेक्ट रेश्यो स्क्रीन इस साल का सबसे खास फीचर रहा। एक ही मोबाइल नहीं तमाम मोबाइल इन फीचर के साथ आये। टेक्नोलॉजी में एक बड़ा नाम बिटकॉइन का भी जुड़ गया जिसने कई नए करोड़पति कुछ महीनों में ही पैदा कर डाले, लेकिन अभी भी देश का एक बड़ा वर्ग इसके बारे में कुछ नहीं जानता है। ऑनलाइन बिल, ऑनलाइन टैक्स और ऑनलाइन शॉपिंग करने वालों की संख्या में गजब इजाफा हुआ है। आज एक आम आदमी भी स्मार्टफोन और इंटरनेट का यूज करता दिखता है। साल 2017 इंटरनेट कनेक्टिविटी की व्यापकता के लिए जानेगा। 1 जीबी एक महीने में प्रयोग करने वाले यूजर भी अब रोज 1 जीबी डेटा प्रयोग करने लगा है।

2018 कुछ नए जलवे बिखेरेगा ये तय है, सबसे पहले फोल्डिंग स्मार्टफोन की भविष्यवाणी की जा सकती है लेकिन शुरुआत समसुंग से होगी या फिर ये कारनामा एप्पल करेगा ये देखने वाली बात होगी। alexa जैसी और  उससे एडवांस AI डिवाइस मार्केट में आना तय हैं।
(आशुतोष पाण्डेय)
Editor National NewsCause

Sunday, 24 December 2017

थोड़ा ही सही बीएसएनएल भी दे रहा है 186 में 28 जीबी डेटा

मोबाइल डेटा प्राइस वार अन्य टेलीकॉम कंपनियों की ही तरह बीएसएनएल ने भी 186 रुपये वाले अपने एंट्री लेवल टैरिफ प्लान को रिवाइज किया है. बीएसएनएल के 186 रुपये वाले प्लान में अब 5 जीबी हाई स्पीड 2G डेटा दिया जाएगा, जबकि पहले 1 जीबी डेटा दिया जा रहा था.प्लान के साथ यूजर्स को फ्री एसएमएस सेवा भी मिलनी है. रिवाइज होने के बाद अब 186 रुपये वाले प्लान में ऑन-नेट और ऑफ नेट अनलिमिटेड कॉल, नेशनल रोमिंग (दिल्ली और मुंबई छोड़कर), 5 जीबी डेटा दिया जायेगा. लेकिन यहाँ 5 जीबी  के बाद डेटा की स्पीड 40 केबीपीएस  हो जाएगी. यानी कुल मिलाकर बीएसएनएल भी अन्य कम्पनियों की तरह अनलिमिटेड डेटा दे रहा है. इस प्लान में 28 दिन लिए 1000 SMS भी दिए जाएंगे. इस प्लान की वैलिडिटी 28 दिनों की है. ये प्लान बीएसएनएल के प्री-पेड ग्राहकों के लिए है. अभी बीएसएनएल का ये प्लान आंध्र-प्रदेश और तेलंगाना सर्किल में शुरू कर दिया गया है. लेकिन इस प्लान में कुछ आकर्षक नहीं दिख रहा है 199 रूपये में जियो जहां 1.2 जीबी डेटा प्रतिदिन दे रहा है. जिओ के 199 प्लान से मिलता

Friday, 22 December 2017

जिओ का न्यू इयर 2018 धमाका: दो शानदार प्रीपेड प्लान

देश के टेलिकॉम सेक्टर में हलचल मचाने वाले रिलायंस जियो ने अब नए साल पर दो नए और ख़ास प्रीपेड ऑफर्स के जरिए कस्टमर्स को न्यू इयर विश करने वाला है.  जियो ने 199 और 299 रुपये के हैपी न्यू इयर 2018 प्रीपेड ऑफर पेश किए हैं, जिनमें कस्मटर्स को पहले से अधिक इंटरनेट डेटा मिलेगा. 199 रुपये के डेटा प्लान के तहत कंपनी ग्राहकों को 1.2 जीबी हाई स्पीड 4जी डेटा प्रतिदिन देगी.

इस प्लान के तहत ग्राहकों को फ्री वॉइस कॉलिंग, अनलिमिटेड एसएमएस और 28 दिनों के लिए सभी प्राइम मेंबर्स को सभी जियो ऐप्स का फ्री सबस्क्रिप्शन मिलेगा. ज्यादा डेटा यूज करने वाले लोगों के लिए कंपनी ने 299 रुपये का प्लान दिया है जिसमे ग्राहकों को  2जीबी 4जी डेटा, अनलिमिटेड एसएमएस और 28 दिनों के लिए जियो ऐप्स के लिए सबस्क्रिप्शन फ्री मिलेगा. इस प्रकार एक  फिर जिओ ने नये साल के लिए ऑफर लाने में बाजी मार ली है. जिओ के रोज नये प्लानों के कारण अन्य कम्पनियों को  सस्ते कालिंग और डाटा प्लान लाने पड़  रहें हैं. जल्द ही एयरटेल, वोडाफोन और आईडिया भी ऐसे ही कुछ प्लान मार्केट में ला सकते हैं. एयरटेल जहां अभी EKYC  का लाइसेंस सस्पेंड करवा चुका है, उसे आज अस्थाई रूप से 10 जनवरी तक केवायसी अपडेट की अनुमति दी गई है. इसलिए एयरटेल चाहेगी की उसके प्लान ज्यादा लुभाने हों ऐसे में एयरटेल कुछ बड़े प्लान ले कर आ सकता है. 

जेटली ये नहीं नहीं कहा बंद नहीं होगा 2000 का नोट



2000 के नोट के बंद होने को लेकर सोशल मीडिया समेत अन्य मीडिया भी स्टेट बैंक की रिपोर्ट का हवाला देते हुए ये दावा करते दिख रहे थे कि जल्द ही सरकार 2000 के नोटों की बंदी की घोषणा कर सकती है. दरअसल 2000 के नये नोट ना छापने या कम छापे जाने को लेकर कुछ खबरें मीडिया में कुछ दिनों से चलाई जा रही थी. इससे आम आदमी में एक डर था कि कहीं फिर से नोट बंदी का सामना ना करना पड़े.केन्द्रीय वित्त मंत्री अरूण जेटली ने इस बात को नकारा तो नहीं लेकिन ये जरूर कहा जब तक सरकार ऐसी कोई  घोषणा ना करें तब तक इन अफवाहों पर ध्यान ना दे. अरूण जेटली के इस बयान का अर्थ ये निकाला जा रहा है कि सरकार आने वाले भविष्य में ऐसी कोई घोषणा कर सकती है. इसका कारण सरकार का लोकसभा में दिया गया एक बयान भी रहा कि मार्च 2017 तक देश में छोटी करेंसी के 3501 अर्ब रूपये के नोट थे. एसबीआई की रिपोर्ट के मुताबिक़ 8 दिसम्बर तक देश में कुल 13324 अरब  रूपये के नोट अर्थव्यवस्था में हैं. आरबीआई ने पांच सौ और दो हजार के 15,787 अरब रूपये के नोट छापे हैं जबकि 13324 अरब रूपये ही वर्तमान में चलन में हैं. इसका मतलब 246.3 करोड़ रूपये के नोट मार्केट में उतारे ही नहीं गये. 

टाइगर ज़िंदा है, सलमान हो सकते हैं गिरफ्तार


आज सलमान की फिल्म "टाइगर ज़िंदा है" रिलीज़ हो रही है. फिल्म बॉक्स ऑफिस पर क्या करिश्मा करेगी ये तो आज पता चल ही जाएगा. लेकिन फिल्म के रिलीज़ के साथ सलमान खान के खिलाफ दिल्ली के गांधीनगर थाने में एक एफआईआर भी लिखवाई गयी है. एफआईआर में मामला जातिसूचक शब्दों के प्रयोग का है.
ताजा खबरों के अनुसार नेशनल कमीशन फॉर शेड्यूल ट्राइब ने नोटिस जारी कर सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय और दिल्ली-मुंबई के पुलिस कमिश्नर्स से 7 दिन में जवाब मांगा है.. एक टीवी शो में किसी जाति विशेष के खिलाफ सलमान और शिल्पा शेट्टी द्वारा अपमानजनक शब्दों के प्रयोग के लिए ये कार्रवाई की गयी है.
वाल्मीकि समाज का कहना है कि पब्लिकली जातिसूचक शब्द का इस्तेमाल करने से हमारे समाज की भावनाओं को ठेस पहुंची है. इस बात से गुस्साए वाल्मीकि समाज ने केस दर्ज कराकर सख्त कार्रवाई की मांग की है. दरअसल, सलमान खान ने अपनी फिल्म 'टाइगर जिंदा है' के प्रमोशन के दौरान अपने डांस स्टाइल को बताने के लिए ये शब्द कह दिया था. सलमान का यह वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. जिसकी वजह से वह मुसीबत में फंस गए.

अब नहीं बना पायेंगे, फेसबुक पर फेक आईडी


अब फेसबुक पर आपको अनचाही फ्रेंड रिक्वेस्ट नहीं आयेंगी. फेसबुक पर यूजर्स को परेशान करने वाली अनचाही फ्रेंड रिक्वेस्ट और मेसेज को रोकने के लिए फेसबुक ने एक नया टूल पेश किया है. यह नया फीचर फर्जी अकाउंट से आने वाली फ्रेंड रिक्वेस्ट को भी रोक सकेगा. फेसबुक के ग्लोबल हेड ऑफ सेफ्टी ऐंटिगन डेविस ने बताया कि अगर किसी यूजर ने किसी को ब्लॉक कर दिया है और वह दोबारा एक नया अकाउंट बनाकर फिर से यूजर से कॉन्टैक्ट करने की कोशिश करता है तो फेसबुक का यह फीचर इसकी पहचान कर इसे रोक देगा.


यह नया टूल यूजर्स को मेसेंजर चैट को इग्नोर करने और सेंडर को ब्लॉक किए बिना उसके मेसेज को इनबॉक्स से बाहर करने का भी ऑप्शन देता है. डेविस ने बताया, 'अब आप मेसेज पर टैप कर कन्वर्सेशन को इग्नोर कर सकते हैं. इससे आपके पास नोटिफिकेशन नहीं आएगा और कन्वर्सेशन अपने आप फिल्टर्ड मेसेजेस फोल्डर में मूव हो जाएगा. इस नए फीचर से यूजर्स बिना सेंडर के जाने मेसेज को पढ़ भी सकेंगे. अभी यह फीचर केवल वन ऑन वन कन्वर्सेशन के लिए है लेकिन जल्द ही यह ग्रुप मेसेज के लिए उपलब्ध होगा.'


फेसबुक के अनुसार महिलाओं विशेषकर महिला पत्रकारों, सेलिब्रिटीज को परेशान किया जाना रोका जा सकेगा. आये दिन महिलाओं को जबरन फर्जी आईडी से फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजने की खबरें आती रहती हैं. ऐसी स्थिति को भी इस टूल के जरिये रोका जाएगा. फेसबुक के अनुसार इससे अप्रमाणिक और फेक अकाउंट पर भी रोक लगेगी. फेक आई डी को भी इस टूल से बनाने से ही रोका जाएगा.

Wednesday, 20 December 2017

प्रियंका चोपड़ा ढूंढ रही हैं शादी के लिए लायक बन्दा



Photo Courtesy: Google Search 
बोलीवुड सेंसेशन प्रियंका चोपड़ा ने एक अवार्ड समारोह में मीडिया द्वारा शादी का सवाल पूछे जाने पर कहा कि क्यों गोलमोल कर पूछ रहे हो, सीधे पूछो यार कि शादी कब करूंगी .. अरे शादी के लिए कौन सा बड़ा प्लान करना होता है जैसे ही कोई लायक बन्दा मिल जाएगा शादी कर लूंगी. कुछ दिनों पहले क्रिसमस और नये साल का जश्न परिवार संग मनाने को प्रियंका चोपड़ा मुंबई लौटी हैं. एक अवॉर्ड समारोह के रेड कारपेट पर पहुंची प्रियंका चोपड़ा से जब अनुष्का-विराट की शादी के बारे में बात करने के बाद पूछा गया कि उनकी शादी कब करेंगी तो जवाब में प्रियंका कहती हैं कि शायद उन्हें अब तक शादी के लिए सही बंदा नहीं मिला, जैसे ही उन्हें कोई लायक बंदा मिलेगा, शादी हो जाएगी.
पद्मावती के रिलीज़ पर बात करने पर उन्होंने कहा उन्हें आशा है फिल्म जल्द ही रिलीज़ होगी. प्रियंका ने कहा कि लोग इस फिल्म के आर्ट से प्रभावित होंगें उन्होंने कहा जल्द ही इससे जुड़े विवाद भी खत्म हो जायेंगें.

प्रियंका के बताया कि जल्द ही हॉलीवुड के टीवी शो क्वांटिको के अगले सीजन की शूटिंग शुरू  करने वाली हूँ और साथ ही  बॉलीवुड की फिल्मो को लेकर भी बड़े खुलासे करूंगी, कई प्रोजेक्ट्स पर बात चल रही है. 

अब बिना परमिशन आप किसी और का फोटो फेसबुक पर अपलोड नहीं कर पायेंगे

अब आप या कोई और फेसबुक पर किसी और अकेला या ग्रुप फोटोग्राफ इस्तेमाल नहीं कर पायेगा. फेसबुक अपनी फेस रिकग्निशन टेक्नोलॉजी को और एडवांस कर रहा है. अब फेसबुक पर अपलोड होने वाले सभी फोटो का फेस रिकग्निशन करेगा, और साथ ही जिसका फोटो अपलोड किया गया उसे इसका नोटिफिकेशन भी पहुंच जाएगा.फेसबुक ने कहा है, आज हम एक नया ऑप्शनल टूल लॉन्च कर रहे हैं जो लोगों को फेसबुक फेस रिकॉग्निशन के जरिए उनकी पहचान मैनेज करने में मदद करेगा.
यह उसी टेक्नॉलॉजी पर काम करता है जो पहले से टैग्ड फोटोज में आपको पहचाने में मदद करती है. फेसबुक ने कहा है कि लोगों द्वारा दिए गए फीडबैक के आधार पर फेस रिकॉग्निशन लाया जा रहा है और इस टूल को काफी आसान बनाया गया है. यूजर्स इसे चाहें तो ऑन या ऑफ कर सकते हैं. इस टूल के जरिये सोशल मीडिया पर दूसरों की फोटो या अन्य प्रकार की अश्लील फोटो को यदि अपलोड किया जाएगा तो जिस किसी की भी फोटो होगी तो उसको मेसेज फेसबुक के द्वारा पहुंच जाएगा.
आप चाहें तो इस फोटो के साथ खुद को टैग कर सकते हैं या फिर जिसने फोटो अपलोड कि है उससे हटाने को कह सकते हैं भले ही आप किसी ग्रुप फोटो में ही क्यों ना हो. फेसबुक ने 2010 से फेस रिकॉग्निशन फीचर यूज करना शुरू किया है. इसके जरिए फोटोज के पिक्सल को ऐनालाइज करके टेम्प्लेट जेनेरेट किया जाता है. जैसे ही फेसबुक पर फोटोज और वीडियोज अपलोड होते हैं फेसबुक इसके जेनेरेट किए गए टेंप्लेट के साथ पहचान करता है.

आधार लिंक के नाम पर एयरटेल ने किया 47 करोड़ का घपला

एक ओर जहाँ हर योजना या डाक्यूमेंट्स को आधार से जोड़ने की बात कि जा रही है. वही इसका मिसयूज भी शुरू हो गया है, पहले जिओ पर आरोप लगा था कि उसने यूजर्स के आधार डेटा को सार्वजनिक किया है. अब नया आरोप एयरटेल पर हैं. यहाँ एयरटेल ने 23 लाख मोबाइल यूजर्स के मोबाइल आधार लिंक के नाम पर एयरटेल पेमेंट बैंक में अकाउंट खुलवा दिए. जबकि उपभोक्ताओं को इसकी कोई जानकारी नहीं दी गयी. बिना इजाजत उनकी एलपीजी सब्सिडी भी एयरटेल बैंक अकाउंट में ट्रान्सफर करवा ली. यहाँ एयरटेल काफी बड़ा गेम खेल गया और आधार लिंक के नाम पर करोड़ों रूपये कमा लिए. ऐसा कर इन 23 लाख खातों से एयरटेल ने 47 करोड़ रूपये इकठ्ठे कर लिए हैं. आधार जारी करने वाले प्राधिकरण UIDAI ने भारती एयरटेल और एयरटेल पेमेंट्स बैंक के खिलाफ कड़ी कारवाई करते हुए उनका E-KYC लाइसेंस अस्थायी तौर पर निलंबित कर दिया है. एयरटेल और एयरटेल पेमेंट्स बैंक अब E-KYC के जरिए अपने मोबाइल ग्राहकों के सिम कार्ड का आधार कार्ड आधारित वेरिफिकेशन नहीं कर सकेंगे. 
इसके अतिरिक्त एयरटेल पमेंट बैंक्स के E-KYC वेरिफिकेशन पर भी रोक लगा दी है. अब कहा तो ये जा रहा है कि एयरटेल उपभोक्ताओं को उनके पैसे मय ब्याज लौटाएगा. लेकिन एयरटेल पेमेंट बैंक के खिलाफ क्या कार्रवाई होगी और एयरटेल टेलीकॉम को इसके लिए क्या सजा दी जायेगी? ये कोई बता नहीं पा रहा है. एक और जहां सरकार आधार को हर योजना के साथ जोड़ने की बात कह रही है, वही प्रारम्भिक स्तर पर ही इसमें बड़े खेल सामने आने लगें है. अभी तो ये एक शुरूआत है, आगे और भी खेल सामने आयेंगें. अब एक नया खेल एयरटेल हाईक मेसेंजर यूज करने वालो के साथ खेल रहा है, इस पर जल्द ही एक बड़ा खुलासा NewsCause टीम आपके सामने करेगी. 

Tuesday, 19 December 2017

सलमान खान का हिमाचल भाजपा की जीत में कनेक्शन


सलमान बॉलीवुड के जाने माने अभिनेता हैं, सीधे राजनीति में दखल ना देने के बावजूद भाजपा से उनकी नजदीकियां मानी जाती हैं. इस बार हुए हिमाचल विधानसभा के चुनावों के बाद तो उनका भाजपा से ये रिश्ता और गहरा गया है.
उनके एक रिश्तेदार हिमाचल में भाजपा विधायक बन गये है. अभी हुए हिमाचल विधानसभा चुनावों में उनकी बहिन अर्पिता खान शर्मा के ससुर अनिल शर्मा मंडी विधानसभा से भाजपा के टिकट पर चुनाव जीते है. अनिल शर्मा पहले कांग्रेस में थे लेकिन ऐन चुनाव से पहले उन्होंने भाजपा का दामन थाम लिया था. सलमान खान के साथ उनका रिश्ता और अब मंडी सीट पर भाजपा के टिकट पर जीतना चर्चा का विषय बना है. शर्मा वीरभद्र कैबिनेट में मंत्री भी रह चुके हैं. लेकिन क्या अब भाजपा सरकार में भी उनको कोई महत्वपूर्ण ओहदा मिलेगा इस पर भी बहस गर्म है. हिमाचल भाजपा के पुराने नेताओं का कहना है कि पार्टी में नये आये लोगों के बजाय पार्टी के पुराने नेताओं को मंत्रीमंडल में शामिल किया जाय. 

Monday, 18 December 2017

अब बिना ब्लॉक किये पाए FB के अनचाहे पोस्ट और अपडेट से पायें छुटकारा



अब आप फेसबुक में बिना किसी व्यक्ति को ब्लाक किये आप उसके अनचाहे पोस्टों और अपडेट से छुटकारा पा सकते हैं. हाल में फेसबुक ने अपने साइट में कुछ बदलाव किया है साथ ही कुछ नए फीचर्स भी जारी किए हैं. इसी क्रम को आगे बढ़ाते हुए फेसबुक ने एक नया फीचर लॉन्च किया है, जिससे यूजर्स को उनके न्यूज फीड में कंटेट को लेकर ज्यादा कंट्रोल मिलेगा.
दरअसल फेसबुक ने अपने न्यूज फीड में एक नया स्नूज फीचर जारी किया है.

समाचार एजेंसी आईएएनएस की खबर के मुताबिक, स्नूज फीचर फेसबुक के दो अरब से ज्यादा यूजर्स को किसी व्यक्ति, पेज या समूह को अस्थायी रूप से 30 दिनों के लिए अनफॉलो करने का ऑप्शन देता है. ये फीचर यूजर्स को अपने दोस्तों, पेजों या समूहों से उन्हें बिना अनफ्रेंड, अनफॉलो या हमेशा के लिए ब्लॉक किए बिना उनसे अल्पकालीन ब्रेक देगा.

फेसबुक की प्रोडक्ट मेनेजर  श्रुति मुरलीधरन ने शुक्रवार देर रात एक ब्लॉग पोस्ट में कहा, 'स्नूज' को चुनने के बाद आप कुछ समय के लिए उस दोस्त, पेज या समूह के न्यूज फीड नहीं देख पाएंगे.' उन्होंने कहा, 'हमने लोगों से सुना है कि वे न्यूज फीड में क्या और कब देखना चाहते हैं, यह निर्धारित करने के लिए और विकल्प चाहते हैं.
'स्नूज' के साथ आपको किसी को हमेशा के लिए अनफॉलो या अनफ्रेंड करने की जरूरत नहीं है, बल्कि स्नूज़ फीचर के जरिये आप किसी विशेष व्यक्ति के पोस्ट, पेज पोस्ट और ग्रुप पोस्ट से छुटकारा पा सकते. 

Sunday, 17 December 2017

जिओ का अपने उपभोक्ताओं को नया तोहफा



जिओ सिनेमा के वेब वर्जन के बाद अब जिओ टीवी का वेब वर्शन जिओ ने लांच कर दिया है। जिओ टीवी के वेब वर्जन की मांग काफी लंबे समय से की जा रही थी।
जिओ टीवी के वेब वर्जन की ये सुविधा केवल जिओ सिम प्रयोग करने वाले उपभोक्ताओं को ही मिलेगी। इसके लिए जिओ का 4G सिम कार्ड होना जरूरी है। वेब वर्जन का इंटरफ़ेस एंड्राइड पर जिओ टीवी एप के इंटरफ़ेस से काफी मिलता जुलता है। यहां यूजर SD और HD चैनल्स के बीच टॉगल भी कर सकते हैं।
जिओ एकाउंट की डिटेल्स से साइन इन कर इसका आनन्द लिया जा सकेगा। जिओ टीवी में पिछले 7 दिन के कंटेंट भी देख सकेंगे। इस समय जिओ टीवी के पास 550 से ज्यादा चैनल हैं। जिओ टीवी के इस वर्जन में इंटरमेंट, मूवीज, किड्स और स्पोर्ट्स सेक्शन शामिल हैं। किसी भी ब्राउज़र के जरिये आप जिओ टीवी
https://jiotv.com इस लिंक के जरिये देख सकते हैं।

इस सरकारी पोर्टल ने दी 7 लाख भारतीयों को नौकरी: तुरंत रजिस्ट्रेशन करवाएं



आज बेरोजगार कई प्राइवेट प्लेसमेंट कंपनियों के चक्कर लगाते हैं वहां अपना मोटी फीस देकर रजिस्ट्रेशन भी करवाते हैं, फिर भी कोई अच्छा जॉब नहीं मिल पाता है. कई फर्जी कम्पनियां भी जॉब देने के नाम पर कई बेरोजगारों को फंसाती हैं. कई बार तो कई फर्जी एजेंसी सैकड़ों बेरोजगारों से नौकरी के नाम पर पैसा वसूल कर भाग भी जाती हैं. ऐसा आये दिन सुनने में आता है.
इस समस्या के मद्देनजर केंद्र सरकार ने एक पोर्टल बनाया है, जहां आप रजिस्‍ट्रेशन कराने के बाद अच्‍छी नौकरी हासिल कर सकते हैं.  इसकी एक बड़ी वजह यह भी है कि इस पोर्टल पर इम्‍प्‍लॉयर भी रजिस्‍टर्ड हैं और अपनी रिक्‍वायरमेंट इस पोर्टल पर अपलोड करते रहते हैं. जहां आप अपनी मनपसंद की नौकरी के लिए अप्‍लाई कर सकते हैं.इस पोर्टल का नाम नेशनल करियर सर्विस (NCS) रखा गया है.

सरकार के दावे को सच माने तो अभी तक 7 लाख बेरोजगारों को इसके माध्यम से नौकरी मिल चुकी है. मिनिस्‍ट्री ऑफ लेबर एंड इम्‍प्‍लॉयमेंट द्वारा तैयार किया गया यह नेशनल जॉब पोर्टल एक ऐसा प्‍लेटफॉर्म है, जहां नौकरी चाहने वाले और नौकरी देने वाले दोनों ही अपना रजिस्ट्रेशन करवा सके हैं. इस पोर्टल पर गर्वनमेंट और प्राइवेट दोनों प्रकार की एजेंसी नौकरी के लिए विज्ञापन करती हैं. कोई भी भारतीय जिसकी उम्र 14 से अधिक है यहां अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकता है. यहाँ शिक्षा का कोई मापदंड नहीं है, अनपढ़, साक्षर या उच्च शिक्षा प्राप्त, डिप्लोमा धारी सभी रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं. 
इस रजिस्ट्रेशन के लिए कोई वैध आईडी प्रूफ होना जरूरी है. जिसमें आधार कार्ड, वोटर कार्ड, राशनकार्ड, मनरेगा कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस या कोई अन्य मान्य प्रूफ होना चाहिए. आप www.ncs.gov.in पर साइन अप करके अपनी डिटेल फीड कर सकते हैं इसके बाद आपके द्वारा दिए गए मोबाइल पर एक ओटीपी आएगा जिसे फीड बॉक्स में डालकर सबमिट करते ही आपका रजिस्ट्रेशन पूरा हो जाएगा. इसके बाद आप अपने स्किल और आवश्यकता के मुताबिक जॉब सर्च कर पाएंगे. इस हेतु आप 1800-425-1514 टोल फ्री नंबर पर भी संपर्क कर सकते हैं. 

सावधान: बैंक लाकर में रखा आपका सामान सुरक्षित नहीं है

शायद आप लोगों ने कभी सोचा भी नहीं होगा कि आपके बैंक लाकर में रखे आपके गहने, डाक्यूमेंट्स और पैसे बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं हैं, अगर बैंक में चोरी हो या अन्य किसी दुर्घटना में आपका लाकर खाली हो जाए तो बैंक की कोई भी जिम्मेदारी नहीं होती है, ये आपके लिए चौकाने वाली बात हो सकती है. 
बैंक में लाकर किराए पर दिए जाने वाले नियमों के मुताबिक बैंक लॉकर में रखा आपका पैसा और बेशकीमती सामान अगर कभी चोरी हो जाता है तो बैंक इसके बदले में आपको एक पैसे की भी भरपाई नही करेगा. बैंक में चोरी, आग या किसी और कारण से लॉकर में रखे सामान को नुकसान पहुंचता है, तो बैंक इसकी कोई भी भरपाई नही करेगा. इस हालात में आपका सारा पैसा और कीमती सामान डूब जाएगा. जी हां, एक आरटीआई के जवाब में भी आरबीआई ने यही कहा है. 
बैंको के अनुसार बैंक लॉकर किराए पर दिया जाता है इसलिए यहां पर बैंक एक किराएदार की स्थिती में काम करता है. हालांकि, लॉकर किराए पर देते वक्त बैंक ये कभी नहीं बताते हैं कि लॉकर में रखा सामान अगर गुम हो जाता है या उसमें कोई नुकसान पहुंचता है तो ऐसी स्थिती में बैंक की कोई जवाबदेही नहीं होगी. ये बात बैंक छुपा लेते हैं और ग्राहक को लगता है कि लॉकर में रखा उनका सामान या पैसा बिल्कुल सुरक्षित है. जबकि वास्तविकता इससे बिल्कुल अलग है.
तो अब सवाल ये है कि अब क्या करें यहाँ एक ही चारा बचता है बैंक लाकर में रखे सामान का बीमा करवा लें, लेकिन यहाँ एक सवाल खड़ा होगा कि हमें बीमा कम्पनी को उन सभी चीजों की डिटेल्स देनी होंगी जिन्हें हम लाकर में रख रहें हैं. सामान और उसकी कीमत के मुताबिक ही बीमा कि क़िस्त भी आपको देनी होगी. 

Friday, 15 December 2017

एक्शन किंग अक्षय कुमार क्यों बाँट रहें हैं सैनेटरी पैड

एक्शन हीरो आजकल अक्षय कुमार सेनेटरी पैड बाँट रहें हैं ये बात बिल्कुल सही है. अक्षय कुमार की आने वाली फिल्म "पैडमैन का ट्रेलर आज ही रिलीज हुआ है, इस ट्रेलर में अक्षय कुमार महिलाओं और लडकियों को पैड बाँटते दिख रहे हैं. पैडमैन कॉमेडी ड्रामा फिल्म है. इस फिल्म में अक्षय कुमार असल पैडमैन की बायोपिक भूमिका में हैं, फिल्म तमिलनाडू के पैडमैन अरुणाचलम मुरूगननथम पर केन्द्रित है जिन्होंने कम लागत वाले सेनेटरी पैड बनाने वाली मशीन का आविष्कार किया था. जिसके लिए उन्हें पद्म श्री सम्मान भी मिल चुका है. इस फिल्म में महानायक अमिताभ बच्चन भी विशेष भूमिका में हैं, ट्रेलर की शुरुआत उनकी आवाज से होती है, "अमेरिका के पास सुपर मैन है, बैटमन है, स्पाइडर मैन है लेकिन इंडिया के पास पैडमैन है". फिल्म के डायरेक्टर आर बाल्की हैं और अक्षय की पत्नी ट्विंकल खन्ना इसी प्रोड्यूसर हैं.
महिलाओं में पीरियड्स और सेनेटरी जैसे विषयों पर बनने वाली ये पहली फिल्म है. फिल्म में अक्षय कुमार की पत्नी का रोल राधिका आप्टे निभा रहीं इसके अलावा सोनम कपूर लीड रोल में हैं. ट्रेलर में अक्षय लडकियों को सेनेटरी नैपकिन देते हैं, जिसको देख लडकियाँ शर्मा जाती है. खुद उनकी पत्नी भी अक्षय के इस काम से बेइज्जती महसूस करती हैं, वे अक्षय को छोड़ कर चली जाती हैं. ट्रेलर को देख कर लगता है कि पत्नी के छोड़ जाने के बाद अक्षय इस काम को बंद करने की सोच लेते हैं, इसी बीच सोनम कपूर की इंट्री होती है और वे अक्षय को अपना मिशन पूरा करने के लिए प्रोत्साहित करती हैं. अक्षय ट्रेलर में यूनाइटेड नेशन में एक स्पीच देते हुए दिख रहें है, यूनाइटेड नेशन में शूट होने वाली ये बॉलीवुड की दूसरी फिल्म है पहली फिल्म हाफ गर्लफ्रेंड थी. फिल्म की रिलीज़ डेट 26 जनवरी 2018 है. रिपब्लिक डे के दिन रिलीज़ कर एक बड़ा सन्देश देने की कोशिश होगी. 

मल्लिका शेरावत को मकान मालिक ने क्यों निकाला


बॉलीवुड की प्रसिद्ध अभिनेत्री को अपने किराए के घर से इस बात के लिए निकाला गया कि वे किराया नहीं दे पा रही हैं. मल्लिका शेरावत को उनके मकान मालिक के द्वारा घर से निकाले जाने की खबर है. मल्लिका अपने बॉयफ्रेंड आक्जेनफैन्स सिरिल के साथ पेरिस के पॉश इलाके के एक अपार्टमेन्ट में रहती हैं.
पिछले साल नवम्बर से अभी तक वे किराया नहीं दे पायी हैं, नवंबर में चार नकाबपोश युवकों ने उनके अपार्टमेन्ट के पास ही टीयर गैस से उन पर हमला किया था तब से उन्होंने इस अपार्टमेन्ट का किराया नहीं चुकाया है, उन पर 80 हजार यूरो यानि लगभग 64 लाख रूपये का बकाया है. मल्लिका के वकील ने मीडिया को बताया है कि मल्लिका और उनका बॉयफ्रेंड इस समय आर्थिक तंगी के दौर से गुजर रहें हैं.
मल्लिका और उनके फ्रेंच बॉयफ्रेंड के बीच शादी की अफवाहें आये दिन उडती रहती हैं और मल्लिका इस बात का कई बार खंडन भी कर चुकी हैं, उन्होंने सोशल मिडिया के जरिये मीडिया से कहा कि जब भी वे शादी करेंगी सबको इनविटेशन मिलेगा.
मल्लिका की शादी कैप्टेन कर्ण गिल के साथ 1997 में हो चुकी है लेकिन 2004 में ही दोनों में तलाक हो गया आजकल मल्लिका सिरिल को डेट दे रही हैं. सिरिल के साथ उनके सम्बन्धों की बात उनके पिता मुकेश लाम्बा ने भी एक इंटरव्यू में स्वीकारी है.















Thursday, 14 December 2017

कांग्रेस मुक्त कांग्रेस: राहुल गांधी के लिए बड़ी चुनौती


गुजरात और हिमाचल प्रदेश के विधानसभा के एग्जिट पोल के नतीजे सामने हैं और सभी एग्जिट पोल दिखा रहें हैं कि गुजरात में भाजपा लौट रही है और हिमाचल में काँग्रेस का सफाया दिखाया जा रहा है।  एक बार फिर कांग्रेस मुक्त भारत दिख रहा है।

गुजरात में भाजपा को अंतिम समय में काफी मेहनत करनी पड़ी, अपने राज्य में ही तीन युवा नेताओं हार्दिक पटेल, जिग्नेश मेवाणी और अल्पेश ठाकोर का सामना भाजपा को करना पड़ा था। लग रहा था इन तीन युवाओं के कारण कांग्रेस को बड़ा फायदा होगा लेकिन जड़ें मजबूत ना होने के कारण काँग्रेस इसे भुना नहीं पाई है।


गुजरात में कुल 182 सीटें हैं जिन में बहुमत के लिए कम से कम 92 सीटें चाहिए. भाजपा यहां पूर्ण बहुमत जुटा लेगी ऐसी आशा है। राहुल गांधी की दो दिन पहले की ताजपोशी के बाद ये परिणाम उनके लिए काफी बड़ी चुनौती दिख रही है। कांग्रेस में एक बड़ी दरार इसके बाद दिख सकती है। शहजाद पूनावाला जैसे कई नेता बगावत के लिए तैयार खड़े हैं, कांग्रेस के लिए बड़ी चुनौती बाहर से नहीं इस बार पार्टी के अंदर से खड़ी होनी है। 
जमीनी सूत्रों की माने तो जिन पाटीदारों के वोट में कांग्रेस सेंध लगा रही थी अंतिम समय तक उनके बीच भी पार्टी अपनी पकड़ नहीं बनाए रख सकी, पाटीदार तीन भागों में बंट गए एक जो कांग्रेस के साथ आये दूसरे वे जो भाजपा के साथ रहे और तीसरे साइलेंट रहे और ये जो साइलेंट रहे उन में से भी अंत समय में भाजपा के साथ खड़े दिखे। हिमाचल में हर बाद बदलाव की रीत है ये इस बार भी बनी रहेगी यही दिख रहा है कांग्रेस इस राज्य को भी खो रही है।

शानदार कैमरे के साथ LG V 30+ लांच



LG ने एक शानदार कैमरा स्मार्ट फोन V 30+ लांच किया है. 16 मेगापिक्सल f 1.6 अपर्चर और 13 मेगापिक्सल f 1.9 अपर्चर के रियर ड्यूल और 5 मेगापिक्सल f 2.2 अपर्चरके फ्रंट कैमरा के साथ पॉइंट जूमिंग टेक्नोलॉजी से लेस इस मोबाइल कैमरे से आप स्क्रीन पर कहीं भी ज़ूम करके एचडी विडियो रिकॉर्ड कर सकते हैं. f 1.6 अपर्चर का ग्लास लेंस इसकी डायनामिक रेंज को बढ़ाता है जिससे फोटो की क्वालिटी काफी अच्छी हो जाती है. फोटो और विडियो क्वालिटी इम्प्रूवमेंट के लिए इसमें हैप्टिक फीचर भी है. हैप्टिक एक टच सेंसर है जो  खुद काम करता है और फोटो और विडियो की गुणवत्ता बढ़ जाती है. कुल मिला कर V 30+ कैमरे की क्वालिटी को लेकर एक बेहतर फोन साबित होगा. फ़ोन में क्विक चार्ज के साथ वायरलेस चार्जिंग भी दी गयी है. फ़ोन की बैटरी 3300 mAh की है. 
मोबाइल में बेजल्स काफी कम हैं, OLED डिस्प्ले (2880*1410 Pixel Resolution) 6 इंच की स्क्रीन दी गयी है. एंड्राइड के नूगट वर्शन के साथ इसमें 4 GB RAM और 128 जीबी का स्टोरेज दिया गया है. फोन क्वालकॉम Snapdragon 835 प्रोसेसर है. स्पेसिफिकेशन को देखते हुए  4 GB रैम काफी कम है रैम 6 जीबी की जाती तो शायद अच्छा होता, 45,000 रूपये में LG इतना तो कर सकता था. फोन में आपको USB सपोर्ट नहीं मिलेगा. 158 ग्राम वजन के साथ आने वाला V 30+ क्या कमाल करता है ये देखने वाली बात होगी.
लेकिन इस समय मार्केट में इसी स्पेसिफिकेशन के साथ कई मोबाइल फोन हैं, ऐसे में किसी एक को चुनना ग्राहकों के लिए भी कठिन काम है. दरअसल जितनी ज्यादा चॉइस मिलती हैं चुनाव उतना ही कठिन होता है. फोटोग्राफी और विडियो के शौकीनों के लिए ये एक अच्छा फोन साबित हो सकता है. फोन ऑनलाइन amazon.in पर बिक्री के लिए 18 दिसम्बर से उपलब्ध होगा वहां पर आपको 17,000 रूपये का एक्सचेंज डिस्काउंट भी दिखाया जा रहा है.  5 में से 4 स्टार इसको दिए जा सकते हैं.
💙💙💙💙 V 30+ 

Wednesday, 13 December 2017

बिना हॉलमार्क सोना खरीदना मतलब धोखा

सोना हर किसी को आकर्षित करता है. चाहे गहनों के रूप में हो या फिर निवेश के लिए हम सोना खरीदते ही  हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि आपका सोना कितना खरा है, या फिर शुद्ध सोने के नाम पर बेचा जा रहा सोना शुध्द है भी या नहीं? आइये आज जानते हैं कि हम शुद्ध सोने की सही और प्रमाणिक पहचान कैसे कर सकते हैं? सोने की शुद्धता का मानक उसका हॉलमार्क है जो उसकी प्रतिशत शुद्धता के आधार पर अंकित किया जाता है. देश में हॉलमार्क का निर्धारण एकमात्र एजेंसी ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड (बीआईएस) करती है. हॉलमार्किंग योजना भारतीय मानक ब्यूरो अधिनियम के तहत गोल्ड संचालन, नियम और विनियम का काम करती है. हालमार्क वाली ज्वैलरी पर हॉलमार्क का निशान और कुछ अंक जैसे 999, 916, 875 अंकित होते हैं. इन्ही अंको से सोने की शुद्धता का राज पता चलता है. आज भी कई सुनार बिना हालमार्क का सोना बेच रहें हैं और लोग खरीद भी रहें हैं. ज्यादातर लोग सोने की शुद्धता को कैरट में जानते हैं जैसे 24 कैरट मतलब सबसे खरा सोना लेकिन इसकी गारंटी क्या है जिसे सुनार 24 शुद्ध कह रहा है उसकी शुद्धता उतनी ही है. इसका पता आसानी से हालमार्क का निशान और 999 अंक देख कर लगाया जा सकता है. 999 का मतलब यहाँ 99.9% शुद्धता से है. यहां अहम आपको अलग कैरट शुद्धता के सोने के लिए हॉलमार्क अंक बता रहें हैं.

  • 24 कैरट 999 
  • 23 कैरट 958 
  • 22 कैरट 916 
  • 21 कैरट 875 
  • 18 कैरट 750 
  • 17 कैरट 708 
  • 9 कैरट 375 

अब यहां सवाल ये है कि  हॉलमार्क वाला सोना कहाँ से मिलेगा केवल बीआईएस से लाइसेंस प्राप्त ज्वेलर ही हॉलमार्क लगा सोना बेच सकते हैं. 
कोई भी सुनार खुद हॉलमार्किंग नहीं कर सकता हैं इसके लिए एक विशेष लैब होती है जो सोने या आभूषणों पर हॉलमार्क का चिन्ह, शुद्धता का अंक, परीक्षण केंद्र का निशान, ज्वेलर का पहचान चिन्ह और वर्ष चिन्हित करती है. कई बार आपका सुनार आपसे कहता है अगर हॉलमार्क वाली ज्वेलरी लेंगें तो महंगी मिलेगी लेकिन प्रति नग  हॉलमार्क लगाने का चार्ज मात्र 25 रूपया है. कई लोग हॉलमार्क का अर्थ 22 कैरट सोने से लगाते हैं, जबकि हॉलमार्क सोने की शुद्धता का मापांक है. शुद्धता के आधार पर सोने और उसके उत्पादों पर हॉलमार्क का निशान अंकित होता है. अत: अब जब भी सोना खरीदे हॉलमार्क की पूरी जानकारी लें. 

Tuesday, 12 December 2017

मोदी और मशरूम कनेक्शन

गुजरात चुनाव विरोधियों को मात देने के लिए नेता सबसे निम्नतम स्तर पर पहुंच गये है, औरंगजेब का वंशज, नीच जैसे शब्द खुल कर प्रयोग हो रहें हैं, शह और मात का खेल भाजपा और विरोधियों में खेला जा रहा है, 14 दिसम्बर को होने वाले चुनाव के लिए आज  प्रचार का अंतिम दिन था,
जहां मोदी ने सी प्लेन के जलवे गुजरातियों को दिखाए वहीं राहुल गांधी ने इसके लिए उनकी खिचाई भी कर डाली। दो युवा तुरूप अल्पेश ठाकोर और जिग्नेश मेवाणी ने वडगाम में संयुक्त रैली कर नरेंद्र मोदी के पर कई व्यक्तिगत प्रहार किये.



अल्पेश ठाकोर ने कहा मोदी की ताकत और गोरेपन का राज एक मशरूम है, इस एक मशरूम की कीमत 8 हजार रूपये है और इसे ताइवान से मंगाया जाता है.
उन्होंने कहा नरेंद्र मोदी रोज 5 यानि 40 हजार के मशरूम खा जाते हैं. इस प्रकार करोड़ों रूपये के तो देश का प्रधानमंत्री मशरूम खा जाता है तो उनके और साथी कितना नहीं खा जाते होंगे. ठाकोर ने चुटकी लेते हुए कहा नरेंद्र मोदी का रंग पहले उनके जैसा काला था ये मशरूम का कमाल है जिससे वे इतने गोरे हो गये हैं. 

दिल्ली में गुलाबी सर्द: दिल्ली की सर्दी

कल रात हुई बारिश के बाद आज दिल्ली में हल्का कोहरा है, तापमान 13℃ सुबह 6 बजे रिकॉर्ड किया गया है जबकि न्यूनतम तापमान 9℃ रिकॉर्ड किया गया था।तय है कि दिल्ली में कड़क ठंड दस्तक देने वाली है। अभी तक ठंड का असर ज्यादा नहीं दिख रहा था लेकिन आज जैकेट, कोट और मफलर में लिपटे लोग सड़कों पर दिख रहे हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी अभी तक मफलर में नहीं दिखे थे जबकि वे मफलर मैन के नाम से ही मशहूर हैं।
इस बारिश के बाद गुलाबी ठंड होने की बात की जा रही है। बारिश के बाद कई ट्रेनों और फ्लाइट्स का भी शेड्यूल भी बिगड़ने की संभावना है। कोहरे के कारण विज़िबिलिटी की समस्या आज तो ज्यादा नहीं है लेकिन आने वाले दिनों में ये समस्या बढ़ सकती है। 

Monday, 11 December 2017

बच्चा चार साल से बड़ा तो नर्सरी में नहीं मिलेगा एडमिशन

नयी दिल्ली, फिर एक बार नर्सरी एडमिशन के लिए दौड़ भाग शुरू होने वाली है लेकिन इस बार अगर आपका बच्चा 31 मार्च 2018 को चार साल से बड़ा हो जाता है तो उसको नर्सरी में एडमिशन नहीं मिलेगा। वैसे अभी एडमिशन शेड्यूल आना बाकी है लेकिन शिक्षा निदेशालय के अधिकारी जो जानकारियां दे रहे हैं उसके अनुसार 4 साल से बड़े बच्चे को नर्सरी में एडमिशन नहीं मिल पायेगा। अधिकारियों के अनुसार 3 से 4 साल तक के बच्चे ही नर्सरी में एडमिशन के योग्य होंगें। एकॉनॉमिकॉली वीकर और डिस एडवांटेज ग्रुप के बच्चे 3 से 5 साल तक नर्सरी में एडमिशन ले सकते हैं।
इंडिया पेरेंट्स एसोसिएशन ने इसका विरोध करना आरम्भ कर दिया है। उनके अनुसार अपर एज की ये लिमिट ठीक नहीं है, यदि ऐसा हुआ तो इसे अदालत में चुनौती दी जाएगी।
शिक्षा निदेशालय के अनुसार नर्सरी एडमिशन के लिए इस वर्ष की अधिसूचना जल्द जारी की जानी है। देखना ये है कि अधिसूचना आने के बाद उसमें क्या शर्तें दिखाई देती हैं।