Wednesday, 13 December 2017

बिना हॉलमार्क सोना खरीदना मतलब धोखा

सोना हर किसी को आकर्षित करता है. चाहे गहनों के रूप में हो या फिर निवेश के लिए हम सोना खरीदते ही  हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि आपका सोना कितना खरा है, या फिर शुद्ध सोने के नाम पर बेचा जा रहा सोना शुध्द है भी या नहीं? आइये आज जानते हैं कि हम शुद्ध सोने की सही और प्रमाणिक पहचान कैसे कर सकते हैं? सोने की शुद्धता का मानक उसका हॉलमार्क है जो उसकी प्रतिशत शुद्धता के आधार पर अंकित किया जाता है. देश में हॉलमार्क का निर्धारण एकमात्र एजेंसी ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड (बीआईएस) करती है. हॉलमार्किंग योजना भारतीय मानक ब्यूरो अधिनियम के तहत गोल्ड संचालन, नियम और विनियम का काम करती है. हालमार्क वाली ज्वैलरी पर हॉलमार्क का निशान और कुछ अंक जैसे 999, 916, 875 अंकित होते हैं. इन्ही अंको से सोने की शुद्धता का राज पता चलता है. आज भी कई सुनार बिना हालमार्क का सोना बेच रहें हैं और लोग खरीद भी रहें हैं. ज्यादातर लोग सोने की शुद्धता को कैरट में जानते हैं जैसे 24 कैरट मतलब सबसे खरा सोना लेकिन इसकी गारंटी क्या है जिसे सुनार 24 शुद्ध कह रहा है उसकी शुद्धता उतनी ही है. इसका पता आसानी से हालमार्क का निशान और 999 अंक देख कर लगाया जा सकता है. 999 का मतलब यहाँ 99.9% शुद्धता से है. यहां अहम आपको अलग कैरट शुद्धता के सोने के लिए हॉलमार्क अंक बता रहें हैं.

  • 24 कैरट 999 
  • 23 कैरट 958 
  • 22 कैरट 916 
  • 21 कैरट 875 
  • 18 कैरट 750 
  • 17 कैरट 708 
  • 9 कैरट 375 

अब यहां सवाल ये है कि  हॉलमार्क वाला सोना कहाँ से मिलेगा केवल बीआईएस से लाइसेंस प्राप्त ज्वेलर ही हॉलमार्क लगा सोना बेच सकते हैं. 
कोई भी सुनार खुद हॉलमार्किंग नहीं कर सकता हैं इसके लिए एक विशेष लैब होती है जो सोने या आभूषणों पर हॉलमार्क का चिन्ह, शुद्धता का अंक, परीक्षण केंद्र का निशान, ज्वेलर का पहचान चिन्ह और वर्ष चिन्हित करती है. कई बार आपका सुनार आपसे कहता है अगर हॉलमार्क वाली ज्वेलरी लेंगें तो महंगी मिलेगी लेकिन प्रति नग  हॉलमार्क लगाने का चार्ज मात्र 25 रूपया है. कई लोग हॉलमार्क का अर्थ 22 कैरट सोने से लगाते हैं, जबकि हॉलमार्क सोने की शुद्धता का मापांक है. शुद्धता के आधार पर सोने और उसके उत्पादों पर हॉलमार्क का निशान अंकित होता है. अत: अब जब भी सोना खरीदे हॉलमार्क की पूरी जानकारी लें. 

No comments:

Post a Comment