Friday, 8 December 2017

क्या राहुल की ताजपोशी के साथ कांग्रेस खत्म हो जायेगी::एक रोचक आंकलन

कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में राहुल गांधी की ताजपोशी क्या कांग्रेसी साम्राज्य का अंत साबित होने वाला है? ऐसे कई सवाल पिछले कुछ दिनों से सुनाई दे रहें हैं. गुजरात विधान सभा चुनावों से ठीक पहले राहुल को कांग्रेस सुप्रीमो की कमान देना कई मायनों में दिलचस्प है, पहली बात तो यहाँ ये उठती है कि क्या सोनिया गांधी के नेतृत्व में कांग्रेसी एक नहीं हो पा रहे थे? दूसरी बात ये कि क्या राहुल कांग्रेसी दिग्गजों को संभाल पाएंगे? उनके चुनाव के साथ ही कई सवाल पार्टी के कई नेता वंशवाद जैसे सवाल खड़े कर चुके हैं. वर्तमान हालातों में इससे कांग्रेस को बड़ा लाभ नहीं दिख रहा है, विशेषकर गुजरात चुनावों में, लेकिन यदि राहुल की ताजपोशी के बाद गुजरात में कांग्रेस का वोट प्रतिशत बढ़ता है और ये वोट प्रतिशत सीटों में तब्दील होता है तो जरूर राहुल मजबूत होंगे. कांग्रेस की हार का सीधा ठीकरा इस बार राहुल के सर फूटना तय है. कांग्रेस मुक्त भारत का जो नारा मोदी ने दिया था उस पर लगातार उनको सफलता भी मिली है, लेकिन इस बार गुजरात चुनावों में मोदी की तल्लीनता और आक्रामक शैली एक बार फिर कुछ कमाल कर सकती है, सच कहें तो मोदी को ऐन वक्त पर तीर चलाने में महारत हासिल है. इस बार भी राहुल गांधी के बयानों को लेकर सहानुभूति भी बटोर रहें हैं, मोदी वोटरों को लुभाने के तरीकों का इस्तेमाल काफी कुशलता से करते हैं, वहीं राहुल कहीं ना कहीं राजनितिक मर्यादा में फंसे दिखते हैं, जहां कांग्रेस मोदी को "नीच" कहने वाले को पार्टी से सस्पेंड करती है, वहीं भाजपा ने सोनिया और राहुल को गाली देने वालों को सदा प्रमोशन ही दिया है.
राजनीति को एक वेश्या की तरह प्रयोग में लाने में भाजपा की महारत के सामने फिर राहुल एक बार फीके ही दिख रहें है, उनमें एक असामाजिक की तरह बहस करने की कुव्वत नहीं है और ना ही उनके पास मोदी जैसे समर्थक हैं जो उनके हर अच्छे बुरे कामों को सही ठहरा सकें. आज राजनीति में एक शातिर खिलाड़ी की आवश्यकता है जो राहुल कहीं भी नहीं दिखते हैं, ऐसे में आने वाले वर्षों में कांग्रेस बीते जमाने की बात हो जाय तो कोई आश्चर्य नहीं होगा, लेकिन अब बात एक संभावना की जो कहीं दिखती भी है, यदि राहुल के नेतृत्व में कांग्रेस गुजरात में कुछ भी अच्छा कर सकती है तो ये तय है कि पूरे देश में कांग्रेस वापस लौटेगी. 

No comments:

Post a Comment