Friday, 22 December 2017

जेटली ये नहीं नहीं कहा बंद नहीं होगा 2000 का नोट



2000 के नोट के बंद होने को लेकर सोशल मीडिया समेत अन्य मीडिया भी स्टेट बैंक की रिपोर्ट का हवाला देते हुए ये दावा करते दिख रहे थे कि जल्द ही सरकार 2000 के नोटों की बंदी की घोषणा कर सकती है. दरअसल 2000 के नये नोट ना छापने या कम छापे जाने को लेकर कुछ खबरें मीडिया में कुछ दिनों से चलाई जा रही थी. इससे आम आदमी में एक डर था कि कहीं फिर से नोट बंदी का सामना ना करना पड़े.केन्द्रीय वित्त मंत्री अरूण जेटली ने इस बात को नकारा तो नहीं लेकिन ये जरूर कहा जब तक सरकार ऐसी कोई  घोषणा ना करें तब तक इन अफवाहों पर ध्यान ना दे. अरूण जेटली के इस बयान का अर्थ ये निकाला जा रहा है कि सरकार आने वाले भविष्य में ऐसी कोई घोषणा कर सकती है. इसका कारण सरकार का लोकसभा में दिया गया एक बयान भी रहा कि मार्च 2017 तक देश में छोटी करेंसी के 3501 अर्ब रूपये के नोट थे. एसबीआई की रिपोर्ट के मुताबिक़ 8 दिसम्बर तक देश में कुल 13324 अरब  रूपये के नोट अर्थव्यवस्था में हैं. आरबीआई ने पांच सौ और दो हजार के 15,787 अरब रूपये के नोट छापे हैं जबकि 13324 अरब रूपये ही वर्तमान में चलन में हैं. इसका मतलब 246.3 करोड़ रूपये के नोट मार्केट में उतारे ही नहीं गये. 

No comments:

Post a Comment