Monday, 31 July 2017

अब रसोई में डाका: एल पी जी सब्सिडी होगी समाप्त

सरकार अब घरेलू एलपीजी पर मिलने वाली सब्सिडी खत्म कर रही है, मार्च 2018 या उससे पहले सब्सिडी को पूर्ण रूप से समाप्त कर दिया जाएगा ये जानकारी केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री धमेंद्र प्रधान ने दी, उन्होंने कहा कि 14.2 किलोग्राम वाले सिलिंडर की कीमत हर माह 4 रूपया बढ़ाई जायेगी. लोकसभा में एक लिखित जवाब में उन्होंने कहा कि सरकार ने ये आदेश 30 मई 2017 को ही पास कर दिया था.

  • हर महीने बढ़ेंगे दाम, 4 रूपया बढ़ाया जाएगा दाम 
  • पेट्रोलियम मंत्री ने लोकसभा में दी ये जानकारी 
  • मार्च 2018 तक घरेलू गैस में सब्सिडी को खत्म किया जायेया 
  • मोदी सरकार ने जिन गरीबों को उज्ज्वला योजना में गैस कनेक्शन दिए हैं, उनका क्या होग?
  • विपक्ष क्यों है खामोश?

आयल कम्पनियों को 1 जून से ही प्रतिमाह 4 रूपया बढाने को कहा गया है. ये आदेश मार्च 2018 या सब्सिडी खत्म होने तक लागू रहेगा.
सभी तेल कम्पनियों को मार्च 2018 तक सब्सिडी पूरी तरह खत्म करने का आदेश दे दिया गया है. इससे पहले 1 जुलाय 2016 को भी सरकार ने प्रतिमाह सिलेंडर की कीमत 2 रूपया बढाने का आदेश कम्पनियों को दिया था. जिसके बाद से ये कम्पनियां 10 बार दाम बढ़ा चुकी हैं. एक ओर केंद्र सरकार उज्जवला योजना के अंतर्गत गैस कनेक्शन बाँट रही है और वही दूसरी ओर गैस की सब्सिडी खत्म कर रही है, अब सवाल ये है कि एक गरीब जिसे मुफ्त में गैस कनेक्शन दिया गया था इतना महंगा सिलिंडर कैसे खरीद पायेगा. अगर दिल्ली की बात करें तो सब्सिडी वाले सिलिंडर की कीमत 477.6 रूपये है, बिना सब्सिडी इसकी कीमत 564 रूपये है. इस प्रकार अभी लगभग 86 रूपया प्रति सिलिंडर सब्सिडी दी जा रही है. पहले ही देश की जनता बढ़े रेल किराए, बढ़ते पेट्रोल और डीजल के दाम, खाने के सामान के बढ़ते दामों से त्रस्त है उसके उपर ये अतिरिक्त बोझ जबकि बैंक बचत खातों पर ब्याज दर लगातार कम कर रहें हैं छोटे और मध्यम वर्ग को देश में खत्म करने की साजिश ही दिखती है. इस पर विपक्ष भी चुप्पी साधे है, उसके लिए वन्देमातरम, गौ रक्षक भूख से बड़े मुद्दे हो गये हैं.



जंक फूड: ये दिल है कि मानता नहीं

आज जंक फूड आम आदमी की लाइफस्टाइल में शामिल हो चुका है. एक समय में बड़े लोगों का शौक कहा जाने वाला जंक फूड आज हर घर में अपनी दस्तक दे रहा है. असल में जंक फूड क्या है? ज्यादातर प्रोसेस्ड रेडीमेड, रेडी टू इट या डिब्बा बंद फ़ूड जंक या फ़ास्ट फूड कहलाता है. सारी दुनिया में जंक फूड का एक बड़ा बाजार है जो लगातार बढ़ता जा रहा है. जहां जंक फूड को स्वास्थ्य के लिए घातक बताया जाता है वही इसके प्रयोगकर्त्ता भी बढ़ते जा रहें हैं. युवाओं और बच्चों का ही नहीं हर उम्र के स्त्री पुरुषों का भी ये फेवरेट फ़ूड है. 
जल्द तैयार होना, सब जगह आसानी से मिलना और अपने ख़ास स्वाद के कारण लोग इसके आदि होते जाते हैं. जंक फूड कई बीमारियों को जन्म देता है, जिसमें मोटापा, दिल की बीमारियाँ, रक्तचाप समस्या और पेट की बीमारियाँ मुख्य हैं. कई बड़ी फूड चेन पूरी दुनिया में इसी जंक फूड के कारण अरबों का कारोबार कर रही  हैं. मैक डोनाल्ड्स, के ऍफ़ सी, बर्गर किंग जैसी कई चेन दुनिया भर में अपना साम्राज्य स्थापित कर चुकी हैं. कई शोध तो यहाँ तक दावा करते हैं कि ज्यादा जंकफूड खाने से प्रजनन क्षमता परभी असर पड़ता है. कई घातक रसायनों का प्रयोग इनके संरक्षण के लिए किया जाता है. कई बार हमारे देश में भी ऐसी फास्टफूड उत्पादों पर रोक लगाई जा चुकी है, लेकिन ऐसी रोक लम्बे समय तक प्रभावी कभी नहीं रह पायी. कुछ समय पहले मैगी नूडल्स पर भी देश में बिक्री पर रोक लगाईं गयी थी. 
जंक फूड का मार्केट इतना बड़ा है कि स्वदेशी के नाम पर आयुर्वेदिक उत्पाद बेचने वाली रामदेव की कम्पनी पतंजलि भी नूडल्स बेच रही है. अब बात करते हैं स्वास्थ्य विशेषज्ञों की उनका मानना है कि यदि जंक फ़ूड कभी कभी खाया जाय तो कतई हानिकारक नहीं है, लेकिन लम्बे समय तक लगातार इसका प्रयोग कई बीमारियों को दावत दे सकता है. मीडिया के जरिये इस उत्पादों का खुले आम प्रचार किया जाता है. आज की लाइफ स्टाइल में लोगों के लिए हर चीज को प्राकृतिक रूप में लेना संभव नहीं है. सभी अनाज, फल या सब्जियां भी कई प्रकार के रसायनों और कीटनाशकों के प्रयोग से उगाये जाते हैं ऐसे में क्या खाना ठीक है क्या गलत कुछ कहने की स्थिति में कोई नहीं है. लेकिन खाने कि आदतों पर नियन्त्रण आवश्यक है. 

Sunday, 30 July 2017

जिओ फोन की बीटा टेस्टिंग: कई नए फीचर सामने आये हैं

जिओ के 4 जी फोन की बीटा टेस्टिंग आरम्भ हो चुकी है. इसके साथ ही इसके कई नए फीचर और स्पेसिफिकेशन भी सामने आ रहें है, 1500 रूपये सिक्यूरिटी जमा कर मिलने वाले फोन की सबसे बड़ी खासियत ये है कि आपके द्वारा दिए गये 1500 रूपये कम्पनी आपको 36 महीने में वापस कर देगी. फोन में आपको 4G VoLte सपोर्ट तो मिलेगा ही. इस प्राइस रेंज में अभी कोई  अन्य फोन निर्माता कम्पनी ऐसा फोन देने की स्थिति में नहीं है, इसलिए ये अपने तरीके का अनोखा ऑफर होगा और करोड़ों लोग इसके साथ निश्चित रूप से जुड़ेंगे भी इस तरह आज भी 2 G पर टिके करोड़ों यूजर के लिए 4G में स्विच करने का अच्छा मौक़ा होगा.
अब बात करते हैं इसके कुछ फीचर्स की फोन की बैटरी काफी टिकाऊ बताई जा रही है जिससे जिओ टीवी का आनन्द लम्बे समय तक लिया जा सकेगा. फोन 2.4 QVGA डिस्प्ले के साथ आ रहा है लेकिन अन्य फीचर फोन की तुलना में ये अधिक ब्राइट और शार्प है जिससे विडियो देखना आसान होगा. इस कीमत में इसके कैमरे भी अच्छे हैं. जिओ इसमें Kai OS का इस्तेमाल कर रहा है इसका अपना एक एप स्टोर भी है जिस पर फेसबुक और यूं ट्यूब के लाइट वर्शन भी उपलब्ध हैं. एक फीचर फोन में वर्चुअल असिस्टेंट का होना अपने में एक खूबी है इसमें भी आपको एक वर्चुअल असिस्टेंट मिलेगा जिसके द्वारा आप वायस कमांड से फोन के कई फंक्शन को चला सकते हैं, जिसमें गूगल सर्च और कालिंग भी शामिल हैं. फोन के अल्फ़ानुमेरिक की बोर्ड में कॉल बटन पर विडियो कालिंग का साइन बना है हो सकता है बाद में जिओ इस पर विडियो कालिंग की सुविधा भी दे. अभी इसमें व्हाट्स एप नहीं है हो सकता है 24 अगस्त लांच से पहले इसमें ये एप भी मिलने लगे. 

Saturday, 29 July 2017

सेल्फी के चक्कर में मरते भारतीय: 64 फीसदी सडक पार करते फोन पर करते हैं बात

भारतीय ट्रैफिक के नियमों को लेकर कितने लापरवाह हैं, इसका उत्तर इस सर्वे से मिलता है. करीब 64 फीसदी लोग सडक पार करते समय नियमित रूप से मोबाइल पर बात करते हैं. 60 फीसदी दोपहिया वाहन चलाते हुए मोबाइल पर बात करते हैं. सैमसंग के द्वारा सेफ इंडिया अभियान के तहत 12 शहरों में किये गये सर्वे में ये बात सामने आयी है. इस अभियान का उद्देश्य लोगों को सडक के नियमों के पालन के लिए जागरूक करना है. 'सेफ इंडिया’ अभियान फिल्म को बहुत अच्छा रिस्पांस मिला है, केवल 32 दिनों में यूट्यूब पर इसे 10 करोड़ से अधिक बार देखा जा चुका है. ‘सेफ इंडिया’ अभियान की शुरुआत हाल ही में केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग एवं जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी ने की थी.
Pic Courtesy: Google Search 

सैमसंग की इस सर्वे रिपोर्ट में बताया गया है कि 14 फीसदी भारतीय रोड पार करते हुए सेल्फी लेते हैं. 33 फीसदी ड्राईवर ड्राइविंग करते हुए मैसेज करते हैं. 18 फीसदी मोबाइल यूजर अपने बॉस की कॉल का तुरंत जवाब देते हैं भले ही वे रोड क्रास ही क्यों न कर रहें हो.
सरकारी आंकड़ों के अनुसार, भारत में सड़क दुर्घटना के चलते हर चार मिनट में एक मौत हो जाती है. करनेगी मेलो यूनिवर्सिटी, इंद्रप्रस्थ इंस्टीट्यूट ऑफ इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, दिल्ली एवं नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, तिरुचिरापल्ली की संयुक्त रिपोर्ट के अनुसार दुनियाभर में सबसे ज्यादा रोड एक्सीडेंट भारत में होते हैं, बल्कि दुनिया भर में सेल्फी लेने के चलते होने वाली कुल मौतों में से अकेले 50 प्रतिशत भारत में होती हैं.

Friday, 28 July 2017

एयरटेल का बड़ा धमाका अब रोज 3 GB 4 जी डाटा 28 दिनों के लिए


एयरटेल अपने ग्राहकों के लिए इस बीच कई बड़े फायदेमंद प्लान लेकर आ रहा है जहां पोस्टपेड ग्राहकों के लिए फॅमिली प्लान ला रहा है, वही प्रीपेड यूजर जिनका प्रतिदिन का इन्टरनेट यूज ज्यादा है उनके लिए भी नये प्लान्स ला रहा है. इस प्लान की वैद्यता 28 दिन होगी. इसके साथ ही अनलिमिटेड लोकल-एसटीडी कॉलिंग भी कंपनी दे रही है. इस प्लान की कीमत 799 रुपये रखी है. जियो के धन धनाधन ऑफर के मुकाबले ये प्लान एयरटेल ने उतारा है. रिलायंस जियो अपने 509 रुपये के प्लान में हर दिन 2 जीबी 4G डेटा देती है. जिसकी वैद्यता 56 दिन के लिए हैं. वैधता के मुकाबले में जिओ का प्लान ज्यादा आकर्षक है. लेकिन 4 जी स्पीड के मामले में दोनों नेटवर्क एक जैसे ही हैं, लेकिन पुराने एयरटेल कस्टमर का मानना है कि उनका कस्टमर सपोर्ट जिओ के मुकाबले काफी उम्दा है. जिओ के उपभोक्ताओं की बड़ी संख्या के कारण कई जगह उनकी स्पीड एयरटेल के मुकाबले में काफी कम होती है.

यहाँ ये बात गौरतलब है कि जिओ का धनाधन ऑफर कोई भी उपभोक्ता प्रयोग कर सकता है लेकिन एयरटेल के एक जीबी प्रतिदिन के ऑफर सब उपभोक्ताओं को उपलब्ध नहीं है. रोहिणी स्थित बालाजी कम्यूनिकेशन ने बातया कि ये ऑफर आपको समय समय पर दिए जायेंगें इसकी पुष्टि हमने कस्टमर केयर से बात कर के भी की. इस प्रकार नये यूजर के लिए जिओ काफी आकर्षक हो सकता है.

वोडाफोन घटिया सर्विस और ग्राहकों को फंसाने के हथकंडे

वोडाफोन जिओ और एयरटेल के सामने घुटने टेकते दिख रहा है. विज्ञापनों में बड़े दावे करने वाला वोडाफोन वास्तविकता में उपभोक्ताओं के लिए सरदर्द बनता जा रहा है. खराब नेटवर्क, बीमार 4G सेवा और लापरवाह कस्टमर केयर सपोर्ट के चलते वोडाफोन दे लोगों का मन हटने लगा है और लोग अन्य सर्विस प्रोवाइडर के साथ जाने की सोच रहें हैं, बड़ी संख्या में लोग वोडाफोन की सेवाएँ छोड़ना चाह रहें हैं, लेकिन यहाँ भी वोडाफोन एक खेल खेल रहा है जब उपभोक्ता पोर्ट के लिए एसएमएस के लिए मेसेज करता है तो उसे यूनिक पोर्ट कोड दिया ही नहीं जाता है, इस संदर्भ में जब कस्टमर केयर से बात कि जाती है तो मामले को देखने की बात कह कर वे इसे टाल देते हैं, कई बार इस मेसेज को करने के बाद भी UPC का ना मिलना वोडाफोन की मंशा दिखाता है. यदि कोई उपभोक्ता इस संदर्भ में अधिक पूछताछ कर ले तो उसका कस्टमर केयर से बातचीत के नम्बर को कम्पनी बंद कर देती है, जिससे उपभोक्ता कुछ भी नहीं कर पाता है, चूंकि एक फोन नंबर कई लोगों को दिया होता है अत: उसको बदल पाना इतना आसान नहीं होता है, जिससे कस्टमर झक मारकर वोडाफोन से जुड़ा रहता है. इस प्रकार कई हथकंडों के जरिये वोडाफोन कस्टमर को फसायें रखता है. हमने @newscause अपने ट्विटर हैंडल और मेल के जरिये @VodaFoneIndia से उनका पक्ष जानना चाहा तो हर बार एक ही उत्तर मिला हम इस मामले को देख रहें है, पिछले 23 दिनोंसे एक ही जवाब मिल रहा है. इसके अलावा मनमाने तरीको से कई सेवाओं को आरम्भ किया जाता है, जिनके एवज में बैलेंस काट लिया जाता है.हजारों उपभोक्ताओं के द्वारा सोशल मीडिया पर शिकायत के बाद भी कहीं  कोई कार्रवाई नहीं की जाती है. 
ग्राहकों की जेब काट अपनी जेबें भरने की योजना यहाँ वोडाफोन चला रहा है. अगर आप भी इसे ही किसी घटना के शिकार हैं तो कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। 

Sunday, 23 July 2017

क्या कपिल शर्मा अनप्रोफेसनल हैं: टी आर पी से क्यों हुए बाहर

स्टैंड अप कामेडियन कपिल शर्मा के साथ पिछले कुछ महीनों से कुछ ठीक नहीं हो रहा है. कई साथी छोड़ कर चले गये, सोनी पर उनके शो से पहले एक नया कामेडी शो "कॉमेडी कम्पनी" एयर होने लगा है. कपिल शर्मा पर अकड से काम करने का आरोप लगातार लग रहा है. बारबार उनके द्वारा शो की शूटिंग कैंसिल किये जाने के बाद उनके रूख पर सवाल उठाये जा रहे हैं. BARC की ताजा रिपोर्ट के अनुसार, जुलाई के दूसरे हफ्ते की टीआरपी में कपिल शर्मा का शो एक बार फिर टॉप 10 से बाहर हो गया है. बता दें, 'द कपिल शर्मा शो' टीवी शो के अलावा कपिल इन दिनों फिल्म 'फिरंगी' की शूटिंग में भी व्यस्त हैं.
फोटो सहयोग: गूगल इमेज 
गत दिनों में फिल्म मुबारकां की टीम शूटिंग के लिए सेट पर कपिल का 4 घंटों तक इन्तजार करती रही लेकिन कपिल नहीं आये इसके बाद इस टीम को बिना शूटिंग बैरंग लौटना पडा. इससे पहले कपिल शर्मा ने शाहरुख-अनुष्का और फिल्म 'गेस्ट इन लंदन' की टीम को बिना शूटिंग किए घर लौटा दिया था. बार-बार शूटिंग कैंसल करने पर लोग बोलने लगे थे कि कपिल अपनी बीमारी का बहाना बनाकर शो की शूटिंग कैंसल कर रहे है. कपिल के प्रोफेशनल करियर पर भी सवाल उठाये जा रहें हैं. कपिल की ओर से इस मुद्दे पर कोई भी बयान नहीं आया, लेकिन उनकी बहन पूजा देवगन ने मामले पर एक सार्वजनिक बयान दिया है. हाल ही में एक वेबसाइट को दिए इंटरव्यू के दौरान कपिल की बहन पूजा ने उनकी शूटिंग कैंसल करने की असली वजह बताई. पूजा के मुताबिक, "इन दिनों भाई की तबीयत काफी खराब चल रही है और लोग उन्हें अनप्रोफेशनल बता रहे हैं. वो अपने काम की रिस्पेक्ट करते हैं और जब भी शो की शूटिंग कैंसल होती है तो उन्हें बेहद बुरा लगता है."

अब क्या 2000 का नोट भी बंद हो जाएगा?

भारतीय रिजर्व बैंक अब छोटे नोटों को अधिक प्रचलन में लाने की तैयारी कर रहा है. बड़े नोट यानि 2000 रूपये के नोट को बाहर का रास्ता दिखाने के प्रयास किये जा रहे हैं. रिजर्व बैंक अब 50, 100 और 500 के नोटों की सप्लाई बढ़ाएगा. अगस्त माह के अंत तक 200 रूपये के नोट भी मार्केट में आने की पूरी संभावना है. एस बी आई अपने एटीएम री केलिब्रेट कर रहा है जिससे 500 के नोटों को ज्यादा जगह मिल सके. 
विश्वस्त सूत्रों के हवाले से ये खबर मिली है कि 11 अप्रैल को 2000 के सौ करोड़ नोट छापने के लिए प्रोडक्शन प्लानिंग की बैठक हुयी थी, लेकिन वित्त मंत्रालय ने अब नये 2000 के नोटों को छापने के प्रस्ताव को नामंजूर कर दिया. वित्त मंत्रालय अब छोटे मूल्यवर्ग के नोट सप्लाई पर जोर दे रही है. इससे  जहां एक और फेक करेंसी पर रोक लगेगी, दूसरी ओर बड़े पेमेंट कैश मैं करने में समस्या आयेगी ऐसे में लोग ऑनलाइन या कैश पेमेंट ज्यादा करेंगे. अभी 2000 के नोट को बंद करने के लिए कोई प्रारूप सरकार के पास नहीं है, लेकिन धीरे धीरे इन्हें मार्केट से हटाया जा सकता है. 

Friday, 21 July 2017

सेक्स एक सफल थरेपी है: आजमाइए

सेक्स शब्द और इस विषय लोग खुलकर चर्चा करना नहीं चाहते हैं. क्या आपने कभी सोचा है आपकी सेक्सुअल लाइफ कैसी है? आज भी लोग सेक्स के बारे में चर्चा को पर्दे में ही करना चाहते हैं. अपने डॉ से कभी आम स्वास्थ्य समस्याओं की तरह सेक्स समस्याओं पर बातें नहीं करते हैं. लेकिन ये सच है कि हम से कई लोग स्वस्थ सेक्स जीवन नहीं जी रहें है. अपनी लाइफ स्टाइल की व्यस्तता में हम एक सफल जीवनशैली से दूर तो हो ही रहें हैं साथ ही हमारा सेक्स जीवन भी बुरी तरह प्रभावित हो रहा है. लेकिन अपने आम स्वास्थ्य के साथ सेक्सुअल स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें. सेक्स जहां एक ओर मानसिक शक्ति देता है, वही कई प्रकार के तनावों को भी कम करता है.  एक सर्वे के अनुसार सेक्स का आनन्द लेने वाले जोड़ें अधिक प्रसन्न रहते हैं. सेक्स एक अच्छी एक्सरसाइज भी है. नियमित और अच्छी सेक्स ड्राइव आपको कई बीमारियों से भी बचाती है. सेक्स के दौरान शरीर में खून का संचार तेजी से होता है, जिससे दिल की बीमारियों को भी लम्बे समय तक दूर रखा जा सकता है.

आज सेक्स को एक थेरेपी की तरह प्रयोग किया जा सकता है, एक अच्छी सेक्सुअल लाइफ डिप्रेशन और तनाव जैसे कई रोगों का उपचार भी बन सकता है. सेक्स के लिए एक क्वालिटी टाइम निकालना जरूरी है, सेक्स पार्टनर के साथ अधिक और खुशनुमा समय बिताना भी एक कला है. कुछ लोग सेक्स को बस उत्तेजना शांत करने का साधन मानते हैं लेकिन ऐसा नहीं है, सेक्स एक कला है, इसमें एक विज्ञान है, एक समर्पण के साथ इसमें कुछ विशेष पलों को भी शामिल करना जरूरी है. "सम्भोग से समाधि" एक आध्यात्मिक सत्य है. अपने पार्टनर को और उसकी आवश्यकता को समझें, सेक्स को अधिक मनोरंजक और खुशनुमा बनाने का प्रयास करें. अगर जरूरत हो तो बेहिचक अपनी व्यक्तिगत समस्याओं को एक दूसरे से खुल कर शेयर करें. एक अच्छी सेक्सुअल लाइफ आपकी आम जिन्दगी को भी काफी खुशनुमा बना सकती है.  

जिओ 4 G फोन फ्री मिलेगा

आज लंबे समय से प्रतीक्षित जिओ 4 G फोन लांच कर दिया गया है. जिओ ने एक बार फिर धमाल किया है. ये फीचर फोन फ्री मिलेगा. लेकिन आपको 1500 रूपये की सिक्यूरिटी देनी होगी लेकिन 36 महीनों के बाद ये रकम आपको वापस मिल जायेगी. इस प्रकार ये जिओ फोन बिल्कुल फ्री होगा. इसकी बुकिंग आपको माय जिओ एप के माध्यम से 24 अगस्त से कर पायेंगे, ये फोन पहले आओ पहले पाओ आधार पर उपलब्ध होगा. इसकी बिक्री सितम्बर से शुरू होगी. ये फोन वायस कमांड पर काम करेगा, वायस कमांड से आप कॉल, मेसेज और गूगल सर्च कर पायेंगे.
जिओ की तरफ से लॉन्च किया गया फीचर फोन मल्टीमीडिया खूबियों से लैस है. फोन में 2.4 इंच का क्यूवीजीए डिस्प्ले दिया गया है जो कि न्यूमेरिक कीबोर्ड से ऑपरेट होगा. फोन में माइक्रो एसडी कॉर्ड सपोर्ट दिया गया है जिसके जरिए यूजर्स फोन में तस्वीरें और मल्टीमीडिया फाइल्स जैसे की वीडियो और म्यूजिक स्टोर कर सकते हैं. फोन में 3.5 mm का हेडफोन जैक उपलब्ध करवाया गया है. साथ ही फोन में एफएम रेडियो के अलावा बेसिक कैमरा भी दिया गया है. कैमरा के मेगापिक्सल को लेकर अभी तक कोई जानकारी नहीं दी गयी है. भारतीय यूजर्स के मद्देनजर इस फोन में 22 भारतीय भाषाओं का सपोर्ट भी दिया गया है. कंपनी के बोर्ड मेंबर आकाश अंबानी ने बताया कि इस साल के अंत तक इस फोन में NFC कनेक्टिविटी आ जाएगी जिसकी मदद से लोग अपना अकाउंट भी इससे जोड़ सकेंगे. ये फोन पेमेंट के नजरिए से काफी सिक्योर है.

Thursday, 20 July 2017

मात्र 80 रूपया दो और बिजली कनेक्शन लो: योगी सरकार

उत्तर प्रदेश, योगी सरकार राज्य के लोगों को न्यूनतम 75 रूपये महीने की किस्त पर आसानी से बिजली कनेक्शन उपलब्ध कराने की योजना लेकर आ रही है. प्रदेश के उर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने कहा, ”हम दिन रात इसी कोशिश में लगे हैं कि बिजली से जुड़ी परेशानियों का समाधान कैसे हो और बिजली को उपभोक्ता फ्रेंडली कैसे बनाया जाए.” उन होने कहा कि हम गरीबी की रेखा के नीचे (बीपीएल) जीवन यापन करने वाले परिवारों को मुफ्त बिजली कनेक्शन देने जा रहे हैं. श्री शर्मा  ने बताया कि योगी सरकार  ने गांव और शहर की बाकी जनता के लिए और एक बड़ा फैसला किया है. उन्होंने बताया कि ग्रामीण इलाकों में एक किलोवाट क्षमता वाले मीटर के लिए 80 रुपये प्रारम्भिक भुगतान लेकर बिजली कनेक्शन दे दिया जाएगा. बकाया भुगतान 75 रुपये की आसान मासिक किस्तों में 16 महीने में लिया जाएगा.

यूपी के उर्जा मंत्री ने कहा, ‘अगर गांव में किसी को पांच किलोवाट का कनेक्शन लेना है तो शुरुआत में 1100 रुपये का भुगतान देना होगा जबकि 375 रुपये मासिक किस्त चुकानी होगी. कुल 16 महीनों में ही किस्त पूरी हो जाएगी.’’ इन बिजली कनेक्शनों में तार सरकार की ओर से मुहैया नहीं कराई जाएगी. अगर केबल की व्यवस्था सरकार करती है तो भी किस्तों की रकम मामूली है.

ऊर्जा मंत्री ने बताया कि बात शहरी क्षेत्र की जनता की करें तो एक किलोवाट क्षमता का कनेक्शन सिर्फ 155 रुपये के शुरुआती भुगतान से मिल जाएगा और उसके बाद 100 रुपये की मासिक किस्त अदा करनी होगी. कुल 16 महीने तक यह किस्त देय होगी. इस कनेक्शन में बिजली का तार सरकार की ओर से मुहैया नहीं कराया जाएगा. उन्होंने बताया कि शहर में अगर यही कनेक्शन अनआर्मर्ड केबल सहित दिया जाए तो शुरुआत में 255 रुपये का भुगतान करना होगा और बाकी 18 किस्तों में 110 रुपये का मासिक भुगतान करना होगा. यानी लगभग 30 मीटर तार की कीमत 480 रुपये भी उपभोक्ता से ली जाएगी. यह रकम प्रारंभिक भुगतान और किस्तों में जुड़ी रहेगी.

Wednesday, 19 July 2017

दुनिया का सबसे बड़ा डाटा नेटवर्क: जिओ


10 करोड़ सबसे तेज यूजर्स बनाने के साथ रिलायंस जिओ ने एक नया दावा किया है कि उनका नेटवर्क दुनिया में सबसे बड़ा है. जियो के डिवाइस प्रेसिडेंट सुनील दत्त ने दावा किया कि 15 फीसदी की हिस्सेदारी के साथ जिओ सबसे बड़ा डाटा नेटवर्क है. दत्त के मुताबिक रिलायंस जियो के लॉन्च से पहले भारत में हर महीने 0.2 गीगाबाइट मोबाइल डेटा की खपत होती थी वहीं रिलायंस जियो के आने से ये खपत 1.2 बिलियन गीगाबाइट हर महीने हो गई है.
इसमें से 1 गीगाबाइट की खपत केवल जियो सब्सक्राइबर कर रहे हैं. सुनील दत्त का दावा है कि रिलायंस जियो कुल मोबाइल डेटा खपत का 85 फीसदी हिस्सेदारी रखता है. यानी बाकि ऑपरेटर एयरटेल, वोडाफोन, आइडिया की हिस्सेदारी महज 15 फीसदी ही है. वहीं दावा किया गया कि सबसे ज्यादा वीडियो डेटा खपत जियो नेटवर्क के हिस्से आती है.
दत्त ने बताया कि रिलायंस जियो नेटवर्क पर 3.6 मिलियन तक हर दिन वीडियो स्ट्रिमिंग का आंकड़ा रिकार्ड किया गया है. जियो दुनिया भर के मोबाइल डेटा ट्रैफिक में 15 फीसदी की हिस्सेदारी रखता है और इस लिहाज से दुनिया का सबसे बड़ा मोबाइल डेटा नेटवर्क है. ये डेटा भारत को दुनिया भर की मोबाइल डेटा नेटवर्क मामले में टॉप देशों में शामिल करते हैं.

अपने आधार कार्ड को मोबाइल के साथ लेकर चलिए: mAadhaar

यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) ने एंड्रॉयड स्मार्टफोन्स के लिए mAadhaar पेश किया है जिसे फ्री में गूगल एप स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है. इस एप को डाउनलोड कर इससे आपको अपने आधार के साथ जोड़ना होगा. सबसे पहले आपको अपना आधार नम्बर डालकर इसे जोड़ना होगा ऐसा करने के बाद आपको वन टाइम पासवर्ड आधार के साथ जुड़े मोबाइल पर भेजा जाएगा. OTP डालने के बाद आप अपनी आधार से जुडी सारी जानकारियाँ देख सकते हैं, जैसे इससे जुड़े बैंक अकाउंट, गैस सब्सिडी की जानकारी आदि. 

यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे M Aadhar App

अभी ये एप बीटा वर्शन में एंड्राइड यूजर के लिए उपलब्ध है. IOS के लिए ये एप कब आयेगा इसकी कोई जानकारी यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) ने नहीं दी है. 

Mail : National News Cause

Tuesday, 18 July 2017

मात्र 500 रूपये में 4 G हैंडसेट: जिओ का एक बड़ा कारनामा


रिलायंस जिओ ने जहां टेलीकॉम सेक्टर में धूम मचा दी है, वहीं अब वो हैंडसेट में भी अपनी मोनोपोली को स्थापित करना चाहता है. एक बार फिर मात्र 500 रूपये में बेसिक 4 G हैंडसेट लेकर मोबाइल बाजार में बड़ी खलबली मचाने वाला है. इस कीमत पर ये पहला VoLTE फोन होगा जिसमें एक बेसिक फीचर फोन में 4G के सभी फीचर मिलेंगे.

जियो फीचर फोन कंपनी के Lyf के तहत आएगा. इस 4G VoLTE फोन में 2.4 इंच का कलर डिसप्प्ले होगा. 512 एमबी रैम और 4 जीबी की इंटरनल स्टोरेज दी गई होगी. इस फोन की इंटरनल स्टोरेज 128 जीबी तक बढ़ाई जा सकेगी. ये फोन डुअल सिम स्लॉट के साथ आएगा जिसमें से एक नैनो सिम सपोर्टिव होगा और दूसरा स्लॉट स्टैंडर्ड सिम के साथ आएगा.

इस फीचरफोन में 2 मेगापिक्सल का रियर और VGA फ्रंट कैमरा होगा. इसमें 2000mAh की बैटरी होगी. ये फोन, ब्लूटूथ और वीडियो कॉलिंग को भी सपोर्ट करेगा. सूत्रों की मानें तो जियो का फीचर फोन ‘KAI ओएस’ के साथ आएगा. जो फायरफॉक्स ओएस का कस्टमाइज वर्जन होगा. एक और रिपोर्ट के मुताबिक ये फीचर फोन हॉटस्पॉट टेदरिंग सपोर्टिव होगा. जिसका मतलब है कि आप अपने फोन से कई डिवाइस कनेक्ट कर सकते हैं और इंटरनेट चला सकते हैं.


जो कस्टमर अभी बेसिक फीचर फोन केजरिए 2 जी का प्रयोग कर रहें उनको 4 जी से जुड़ने का मौक़ा मिलेगा इस प्रकार एक बार फिर रिलायंस एक बड़े कस्टमर बेस को अपने नेटवर्क से जोड़ लेगा. 
21 जुलाय को इस फोन के लांच होने की संभावना है. रिलायंस जिओ के सूत्रों के मुताबिक़ जिओ इस फोन के साथ कुछ अति आकर्षक ऑफर भी दे सकता है. फोन को खरीदने के बाद सिम एक्टिवेशन के लिए आधार की अनिवार्यता यहाँ भी होगी लेकिन किसी प्रकार के बारकोड की जरूरत नहीं होगी. लेकिन जिस आधार कार्ड पर अभी तक 6 सिम लिए जा चुके हैं उस पर अब अधिक सिम नहीं खरीदे जा सकेंगे. वैसे सभी जिओ सिम इस हैंडसेट के साथ काम करेंगे. 

दलित नेत्री की हूटिंग और दलित उद्धार का दावा: मायावती का इस्तीफ़ा


राज्यसभा में चुनौतीपूर्ण तरीके से बहुजन समाजवादी पार्टी की नेत्री मायावती का इस्तीफा अब राजनीति में कई नये मायने पैदा करेगा. एक और जहां राजनीति में हर स्तर पर दलित उद्धार की बात की जाती है, एक दलित को राष्ट्रपति के पद तक पहुंचाने के नाम पर कई कसीदे कसे जाते हैं. राज्यसभा में मायावती को सहारनपुर कर मुद्दें पर बोलने ना देकर शायद संसदीय व्यवस्था पर कई अनुत्तरित सवाल खड़े किये गये हैं. दलित के नाम पर जिस तरीके से सारे दल अपनी रोटियाँ सेक रहें हैं वही दूसरी पार्टी के नेताओं को दलित विमर्श करते देख उनका रवैया कैसे बदल जाता है? ये राज्यसभा में साफ़ दिखा. भाजपा जहां दलित के नाम पर हर मुद्दे को मोड़ रही हैं वहीं एक दलित नेता को दलितों के मुद्दे पर बोलने तक नहीं दिया जाता है. मायावती का भारतीय राजनीति में एक खास स्थान है कम से कम उत्तर प्रदेश की दलित राजनीति उनके इर्द गिर्द जरूर घूमती है, भले ही अभी उनकी सत्ता में भागीदारी ना के बराबर हो लेकिन उनके कद के सामने कोई और दलित नेता अभी नहीं दिखता है. आपको लालू यादव का हस्र जरूर याद होगा, जब ये कहा जा रहा था कि उनकी राजनैतिक पारी समाप्त हो गयी है लेकिन पिछले विधानसभा चुनावों में सबसे बड़े दल के रूप में उनका लौट आना कई बड़ी बातों की ओर संकेत करता है. मायावती का ये कदम एक बड़े राजनैतिक मंच को तैयार करेगा, दलित के नाम पर खड़े नये दलों के लिए अब अपने अस्तित्व का संकट तय है. 


दलित राजनीति के आज कई आयाम हैं, अब दलित एक वोट बैंक नहीं है, उसे अब उलझाया नहीं जा सकता है. लालू यादव ने मायावती को राजद के कोटे से राज्यसभा में भेजने का आश्वासन कई नये समीकरण तैयार कर रहा है. अब दलितों को खुद अपनी लड़ाई में आगे आना चाहिए. अगर मायावती का इस्तीफा मंजूर नहीं होता है तो इसको सरकार के मुंह पर तमाचा ही माना जाएगा. 


भाजपा ने यहाँ मौक़ा दिया है विपक्ष की अब एकजुट हों और एक बड़ा मुद्दा दलित और अल्पसंख्यकों को लेकर आगे आयें, अब देखना है नीतीश, लालू, मुलायम, अखिलेश, ममता बनर्जी और वामदल इससे क्या सीखते हैं. दूसरी ओर क्या मायावती खुद को अब साबित करने के लिए क्या करती हैं, ये उनके लिए अपने राजनितिक अस्तित्व को बचाने की सबसे बड़ी लड़ाई है.

वोडाफोन 4 G से दिल्ली एन सी आर में उपभोक्ता परेशान: बड़ी ठगी


वोडाफोन से परेशान ग्राहक एयरटेल और जिओ के साथ अपने नम्बर को पोर्ट करने के लिए कोशिश कर रहें हैं, वोडाफोन ग्राहकों लुभाने के लिए भले ही लाख दावे करे लेकिन हकीकत इससे बिल्कुल अलग ही है. सबसे बुरे हाल में कम्पनी का 4 G नेटवर्क है जिसकी स्पीड की बात करें तो 2G स्पीड से भी बदतर है, दिल्ली एन सी आर में तमाम उपभोक्ता इसकी सेवाओं से परेशान है. कोई ज्यादा बिल की शिकायत करता है तो किसी की शिकायत कॉल ड्राप को लेकर है. सबसे बड़े 4 जी नेटवर्क का दावा करने वाली कम्पनी की हालत धरातल में ये है कि इसके 4 जी नेटवर्क में 2 जी के सिग्नल ही आते है, कम्पनी ने कई 28 दिनों के इन्टरनेट प्लान निकाले हैं जिनमे रोज एक जीबी 4 जी डाटा का दावा वोडाफोन करती है.

जिओ उपभोक्ताओं की जानकारियाँ आम हुयी कैसे?

लेकिन जब हमने 123 उपभोक्ताओं से बात की तो उसमें से 96 ने ये माना की वे ठीक तरीके से 4 जी की सेवा नहीं ले पाते हैं. कम्पनी उपभोक्ताओं की शिकायत सुनती नहीं है, एक बार कोई प्लान खरीद लो भले ही प्रयोग करो या ना करो कम्पनी का कुछ लेना नहीं है. 123 में से 78 उपभोक्ताओं ने बताया कि उन्होंने जब कस्टमर केयर से बात की तो उन्हें गोलमोल जवाब दे दिया गया. जो उपभोक्ता अपना नम्बर दुसरे नेटवर्क में पोर्ट करना चाहते हैं उनको पोर्ट कोड नहीं भेजा जा रहा है. हमारे सामने 23 उपभोक्ताओं ने पोर्ट के लिए मेसेज किया जिसमें सिर्फ 5 के पास पोर्ट कोड आया अन्य 18 में से 4 लोगों ने जब कस्टमर केयर को फोन किया तो जवाब मिला शायद नेटवर्क बिजी है लेकिन 72 घंटे बाद भी उनको कोई मेसेज नहीं मिला है, ऐसे में किसी अन्य नेटवर्क में कैसे पोर्ट किया जाय? कई उपभोक्ता इससे आजिज आकर एयरटेल और जिओ का कनेक्शन ले रहें है, दिल्ली लक्ष्मी नगर में रहने वाले मनीष कुमार जो पेशे से सॉफ्टवेर इंजीनियर हैं ने बताया वे 2 सालों से वोडाफोन प्रयोग कर रहें हैं और तभी से परेशान हैं कई बार पोर्ट के लिए मेसेज कर चुके हैं, लेकिन कोई सुनने वाला नहीं है. रोहिणी के प्रकाश बताते हैं कि उनका बिल तो इस बार चौगुना आया है उनके फोन पर वोडाफोन ने खुद कई सर्विस एक्टिवेट कर दी हैं. जब इसकी शिकायत की गयी तो ये कह दिया गया कि ये सब कस्टमर ने खुद एक्टिवेट की हैं. लेकिन अब कई उपभोक्ता एक साथ 4 G सर्विस के लिए लिए गये अपने पैसे वापस मांग रहें हैं. कुछ लोग तो लीगल एक्शन की बात भी कर रहें हैं. जब हमने ट्विटर पर वोडाफोन का पक्ष जानना चाहा उनका जवाब था वे इस विषय को देख रहें है, लेकिन पिछले 15 दिनों से रोज इसी मेसेज को देखते न्यूज़ कॉज ने अपनी पड़ताल आरम्भ की तो मालूम पडा की 70 फीसदी से ज्यादा उपभोक्ता किसी ना किसी रूप में ठगा जा रहा है.

Monday, 10 July 2017

जिओ उपभोक्ताओं की सुरक्षा के साथ धोखा: डिटेल्स लीक

एक प्राइवेट वेबसाइट पर जिओ के लगभग 12 करोड़ कस्टमर के डाटा लीक होने की खबर है. वेव साईट www.magicapk.com पर इन सूचनाओं के लीक होने की खबर थी. सूत्रों केअनुसार वेव साईट के सर्चबार में कोई जिओ नम्बर डालने पर उससे जुडी सभी सूचनाएं स्क्रीन पर दिख रही थी. अब इस वेबसाईट को बंद कर दिया गया है. यहाँ ये गौरतलब है जिओ के सभी नम्बर आधार से जुड़े हैं इस प्रकार कस्टमर की बायो-मीट्रिक डिटेल्स तक भी पहुंचा जा सकता है. अब इसी आधार से आपके बैंक अकाउंट और अन्य कई दस्तावेज भी जुड़े हैं. कई विशेषज्ञों ने जिओ को आधार से जोड़ने का इसी बात के लिए विरोध किया था कि यहाँ आसानी से जानकारियों को लीक किया जा सकता है. अगर ऐसा होता है तो काफी बड़ा सायबर आक्रमण भविष्य में किया जा सकता है.
अब जिओ ने अपने उपभोक्ताओं को विश्वास दिलाया है कि सारी सूचनाएं सुरक्षित रहेंगी. प्रवक्ता ने कहा कि हमने वेबसाइट के दावों के बारे में कानून का प्रवर्तन कराने वाली एजेंसियों को सूचित किया है. हम कड़ी कार्रवाई सुनिश्चित करेंगे. गौरतलब है कि मई में WannaCry नाम के एक मैलवेयर ने भारत सहित दुनिया भर में 3 लाख कंप्यूटरों को खराब कर दिया था। इसके बाद पिछले महीने Petya नाम के एक और रैनसमवेयर ने हमला किया था. इन हमलों के बाद साइबर सुरक्षा विशेषज्ञों की जरूरत बढ़ गई है, जो संगठनों को अपने डाटा और सिस्टम को पहले से अधिक सिक्योर बनाने के लिए अधिक निवेश करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं. 

Sunday, 9 July 2017

अब रोबोट पुलिस करेगी आपकी सुरक्षा

दुबई के बाद अब भारत में भी रोबोटिक पुलिस पर काम किया जा रहा है, जल्द ही आपको आस पास में रोबोट पुलिस दिखाई देगी. दुबई में कई मालों की सुरक्षा का जिम्मा इन रोबोट पुलिस को ही दिया गया है. हैदराबाद में एक पायलट प्रोजेक्ट के तहत कुछ रोबोट पुलिस का इस्तेमाल किया जाएगा. रोबोटिक्स फर्म H-Bots ने बताया कि वे रोबो काप पर काम कर रहे हैं और जल्द ही इन्हें लांच भी कर दिया जाएगा. एच बोट्स रोबोटिक्स के  फाउंडर कृष्णन पी एस वी ने बताया कि ये रोबोट पुलिस मेड इन इंडिया होंगे. अभी तक ये केवल दुबई में हैं और जापान मेड हैं. अगले कुछ महीनों में प्रोटोटाइप तैयार कर लिया जाएगा और इस सालके अंत तक ये अपनी सेवाएँ देने लगेंगे. एक रोबोट पुलिस की कुल कीमत 3 लाख रूपये आयेगी. इन रोबोट पुलिस के जरिये क्या काम करवाए जायेंगे ये अभी पता नहीं है, लेकिन अगर ऐसा होता है तो रेगुलर पुलिस को काफी राहत मिलेगी, अभी पुलिस के पास अपराध नियन्त्रण से ज्यादा सुरक्षा का जिम्मा है, जिस कारण समय समय पर पुलिस पर लापरवाही के आरोप लगते रहते हैं. 

ट्यूबलाइट के बाद अब सलमान खान की ई साइकिल

सलमान खान "ट्यूबलाइट" के बाद एक बाजार में एक ई साइकिल लेकर आ रहें हैं, इस ई साइकिल को ईको फ्रेंडली बताया जा रहा है. बैटरी से चलने वाली ये साइकिल बीइंग ह्यूमन जो कि सलमान खान की संस्था है, के द्वारा लाई जा रही है, इससे पहले बीइंग ह्यूमन ब्रांड के कपड़े भी बाजार में उपलब्ध हैं. BH-27 और BH-12 दो वेरिएंट में ये साइकिल  उपलब्ध होगी. जिसकी कीमत BH-27 की लगभग 60,000 और BH-12 की लगभग 40,000 होगी. जल्द ही ये दोनों साइकिल अमेज़न प्राइम पर उपलब्ध होंगी. सूत्रों के मुताबिक साइकिल की अधिकतम स्पीड 25 किमी प्रति घंटे होगी. इसके लिए किसी प्रकार के लाइसेंस की जरूरत नहीं होगी. इसको बैटरी के अलावा पैडल से भी चलाया जा सकेगा. सलमान का मानना है कि इससे सडकों पर भीड़ कम होगी है और प्रदूषण  भी कम होगा. बैटरी से चलने के कारण इससे लम्बी दूरी के लिए भी प्रयोग किया जा सकेगा. इसे पहाड़ों या मैदानों दोनों जगह आसानी से चलाया जा सकेगा.
सलमान के फैन ही उनका मार्केट हैं बीइंग ह्यूमन के अन्य प्रोडक्ट भी काफी बिकते हैं. ऐसे में ई साइकिल भी अपना एक अच्छा मार्केट बना लेगी ऐसा माना जा सकता है. वैसे आम आदमी के लिए कीमते जरूर ज्यादा हैं. 

National News Cause : अब फेसबुक पर ग्रुप लाइव चैट: फेसबुक की तैयारी: New...

National News Cause : अब फेसबुक पर ग्रुप लाइव चैट: फेसबुक की तैयारी: New...: अब फेसबुक लाइव ग्रुप विडियो चैट की सुविधा देगा, जल्द ही फेसबुक द्वारा मेसेंजर की तरह ही एक नया एप इसके लिए तैयार किये जाने की खबर है. पढिये कैसा होगा ये एप?

चुटकी में हैक कर लें व्हाट्स एप मेसेंजर

मेसेजिंग एप व्हाट्सएप का इस्तेमाल आजकल सभी यूजर्स करते हैं. इंस्टेंट मेसेजिंग एप व्हाट्सएप में आप कई दोस्तों से जुड़े होते हैं. व्हाट्सएप को तो आप रोज ही ओपन करते हैं और दोस्तों के साथ टेक्स्ट, ऑडियो और वीडियो चैट करते हैं. लेकिन अगर आप चाहें तो किसी दूसरे का भी व्हाट्सएप अपने फोन पर ओपन कर सकते हैं. इसके अलावा उनके व्हाट्सएप पर आने वाले मैसेज भी पढ़ सकते हैं. इतना ही नहीं, आप उसके व्हाट्सएप से किसी से भी चैट कर सकते हैं. इसका एक बहुत ही आसान तरीका है जिसके जरिये आप ये काम कर सकते हैं. इसके लिए बस आपको एक एप को अपने फोन में डाउनलोड करना होगा. यह एक फ्री एप है.

कैसे पढ़ें किसी के Whatsapp मेसेज?

अपने फोन में WhatsScan for Whatsapp नाम के एप को डाउनलोड करें फिर एप को इंस्टॉल करें. अब एप को ओपन कर भाषा का चुनें. अब आपसे पासवर्ड देने को कहा जाएगा आप अपनी मर्जी से कुछ भी पासवर्ड दे सकते है और इसे सेट कर सकते हैं. 


आपके फोन में एक QR कोड भेजा जाएगा जिससे आप किसी का भी अकाउंट ओपन कर सकते हैं. इस कोड को उस फोन से स्कैन करें, जिसका व्हाट्सएप आप प्रयोग करना चाहते हैं.  इसके बाद आप इस अकाउंट से सभी प्रकार के मेसेज भेज और देख सकते हैं. 
कहीं कोई आपके मेसेज भी ऐसे ही ना पढ़ रहा हो, सावधान अपना मोबाइल किसी के हाथ में ना दें और मोबाइल को सदा पासवर्ड से प्रोटेक्ट रखें.
  

अब फेसबुक पर ग्रुप लाइव चैट: फेसबुक की तैयारी: News Cause Exclusive

अब फेसबुक लाइव ग्रुप विडियो चैट की सुविधा देगा, जल्द ही फेसबुक द्वारा मेसेंजर की तरह ही एक नया एप इसके लिए तैयार किये जाने की खबर है. ये एक फेमस विडियो चैट एप "हाउस पार्टी" की नकल कर बनाया जा रहा है. बताया  जा रहा है कि फेसबुक के इस एप का नाम 'बोनफायर' होगा. इस एप के जरिये फेसबुक ज्यादा से ज्यादा युवाओं को अपनी चैट एप से जोड़ने की तैयारी कर रही है.

वॉल्वो वी 90 जल्द भारत में: उल्टी गिनती शुरू 

हाउस फायर यूथ जनरेशन में काफी लोकप्रिय है. नवम्बर 2016 तक इसके 12 लाख यूजर थे जो इस एप पर विडियो प्रतिदिन 2 करोड़ मिनट बिताते हैं. ऐसे ही किसी एप को अगर फेसबुक से जोड़ा जाएगा तो फेसबुक के करोड़ों यूजर इससे सीधे जुड़ सकेंगे. इसे देखना ये है कि ये एप फेसबुक प्रयोगकर्ताओं को कब तक उपलब्ध होगा.  
ये वायरस कर देगा आपके मोबाइल फोन को तबाह: कॉपीकैट


Friday, 7 July 2017

Valvo V 90 भारत में अगले हफ्ते 75 लाख में मिलेगी

स्वीडन की कार निर्माता कंपनी वॉल्वो अगले सप्ताह 12 जुलाई को भारत में V-90 क्रॉस कंट्री को लॉन्च करने जा रही है. वॉल्वो V-90 क्रॉस कंट्री को वॉल्वो एस 90 सिडान की तर्ज पर तैयार किया गया है. क्रॉस कंट्री मॉडल होने के नाते वॉल्वो V-90 क्रॉस कंट्री में एसयूवी वाली खूबियां दी गयी हैं और इसके ग्राउंड क्लियरेंस को बढ़ाया गया है. V-90 एस्टेट की तुलना की जाए तो V-90 क्रॉस कंट्री में ब्लैक प्लास्टिक क्लैडिंग, सिल्वर स्किड प्लेट और रूफ रेल लगाया गया है. वॉल्वो V-90 क्रॉस कंट्री में 2.0-लीटर, 4-सिलिंडर दमदार डीजल इंजन लगा है जो 232 बीएचपी का पावर और 480 न्यूटन-मीटर का टॉर्क देता है. 

कार की अनुमानित कीमत 75 लाख रुपये (एक्स-शोरूम) के करीब होने की संभावना है. इस कार का ऑल-व्हील ड्राइव सिस्टम भी इसकी एक विशेष खूबी है. जहां एक ओर इसका इंटीरियर लाजवाब है इसके साथ इसके इंजन को भी 8-स्पीड ऑटोमेटिक ट्रांसमिशन से लैस किया गया है. कार में इको, डायनेमिक, कंफर्ट और रफ रोड ड्राइविंग मोड्स भी दिए गए हैं. 

कॉपी कैट आपके फोन को कर देगा तबाह

वाना क्राई के बाद एक नये मैलवेयर ने तहलका मचाया हुआ है, कॉपी कैट नाम के इस मैलवेयर ने दुनिया भर के 14 मिलियन एंड्रॉयड स्मार्टफोन को प्रभावित किया है. इसमें से लगभग 8 मिलियन डिवाइस को इसने रूट कर दिया. यह रिपोर्ट काफी चौंकाने वाली है और एंड्रॉयड स्मार्टफोन की सुरक्षा तरीकों पर सवाल भी उठाती है. सिक्योरिटी फर्म चेक प्वॉइंट के मुताबिक दुनिया भर के लगभग 14 मिलियन एंड्रॉयड डिवाइस को इसने अपना निशाना बनाया है. यह खतरनाक मैलवेयर किसी भी स्मार्टफोन को रूट कर सकता है या हाइजैक कर आपके मोबाइल को इस्तेमाल भी कर सकता है.
भारतीय यूजर्स के लिए चिंता की बात यह है कि सिक्योरिटी फर्म ने कहा है कि इस मैलवेयर से सबसे ज्यादा एशिया के स्मार्टफोन को नुकसान हुआ है. रिपोर्ट के मुताबिक इस अटैक से अमेरिका के लगभग 2 लाख 80 हजार एंड्रॉयड डिवाइस इससे प्रभावित हुए हैं. आंकड़ों के मुताबिक पिछले साल अप्रैल और मई में इसने सबसे ज्यादा एंड्रॉयड को प्रभावित किया था, लेकिन तब ही इसे गूगल प्ले प्रोटेक्ट से ब्लॉक किया गया जिसके बाद इसमें कमी दर्ज की गई.
यह मैलवेयर कोई नया नहीं है, बल्कि दो साल पहले भी गूगल ने प्ले स्टोर को इससे बचाने के लिए अपडेट जारी किया था. हालांकि थर्ड पार्टी ऐप्स पर गूगल प्ले स्टोर का उतना अख्तियार नहीं होता, इसलिए ये उनके सहारे एंड्रॉयड डिवाइस को प्रभावित कर रहे हैं. चेक प्वॉइंट सिक्योरिटी फर्म के मुताबिक अभी हाल में  इसके कोई सबूत नहीं मिले हैं जिससे यह कहा जा सके कि यह गूगल प्ले पर आया है.
गूगल ने एक बयान में कहा है, ‘प्ले प्रोटेक्ट यूजर्स को उन ऐप्स से बचाता है जो कॉपीकैट मैलवेयर से प्रभावित हैं. इसलिए यह गूगल प्ले स्टोर पर नहीं आ सकता है. आपको बता दें कि कॉपी कैट थर्ड पार्टी मोबाइल ऐप स्टोर पर खुद को पॉपुलर दिखाता है. एक बार यह कॉपी कैट  मैलवेयर किसी एंड्रॉयड स्मार्टफोन में आता है तो सबसे पहले एक बार री स्टार्ट होने की जरूरत होती है. हालांकि सभी डिवाइस में यह पूरी तरह अपना काम नहीं कर सकता है. चेक प्वॉइंट सिक्योरिटी के मुताबिक यह जिन स्मार्टफोन में जाता है उनमें से 54 फीसदी को प्रभावित करने में कामयाब होता है. रिसरचर्स ने बताया कि कॉपी कैट पूरी तरह डेवेलप्ड मैलवेयर है और यह कई तरह के नुकसान पहुंचाने में सक्षम है. इसमें डिवाइस को रूट करने से लेकर इसमें खतरनाक हैक कोड डालने की क्षमता है. चेक प्वॉइंट रिसर्च के मुकाबिक यह मैलवेयर बना कर फैलाने वाले हैकर्स ने दो महीनों में 1.5 मिलियन डॉलर बटोरे हैं . दुनिया भर में 14 मिलियन डिवाइस को प्रभावित किया जिनमें से 8 मिलियन डिवाइस को इस मैलवेयर ने रूट कर दिया.
हैरान करने वाली बात यह है कि सिक्योरिटी फर्म इसे काफी खतरनाक बता रहा हैं क्योंकि इसका सक्सेस रेट दूसरे मैलवेयर के मुकाबले काफी ज्यादा है. आपको बता दें कि ज्यादातर मैलवेयर ऐसे होते हैं जो मोबाइल में तो आ जाते हैं, लेकिन जिस तरह का नुकसान पहुंचाने के लिए उन्हें डिजाइन किया गया होता वैसा नहीं कर पाते हैं.

अब खुलने जा रही हैं वाई फाई की दुकानें

पीसीओ एक जमाने की बात हो गयी लेकिन दो दशक पहले पीसीओ एक बड़ी जरूरत थी. पैसे दो और फोन कर लो. अब जमाना है इंटरनेट का तो खुल रहें हैं नये पीडीओ (पब्लिक डाटा ऑफिस) यहाँ वाई फाई हॉटस्पॉट लगाए जायेंगे जिसके जरिये आप महज 2 रूपये से लेकर २० रूपये में इन्टरनेट सेवा का लाभ उठा पायेंगे. ये प्रयास सरकारी एजेंसी दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) के द्वारा किया जा रहा है. 

आपकी मुस्कान से फोन कॉल

ट्राई ने इन हॉट स्पॉट की स्थापना के लिए कई कम्पनियों को आमंत्रित किया है. इन हॉटस्पॉट में मात्र 2 रूपये के शुरूआती मूल्य से इन्टरनेट सेवा उपलब्ध होगी. 25 जुलाई तक इसके लिए कम्पनियों से आवेदन मांगे गए हैं. एक तरह से ये टेलिकॉम सेक्टर में कई नये रोजगार उपलब्ध करवाएगा. वैसे अभी ये परियोजना सरकार प्रायोगिक रूप में चलायेगी लेकिन अगर योजना सफल रही तो इसका विस्तार किया जायेगा.

Thursday, 6 July 2017

स्काइप पर बिना आधार कॉल नहीं: आधार जरूरी होगा

गैस आधार से, बैंक अकाउंट आधार से, इनकम टैक्स आधार से और अब वीडियो कालिंग एप स्काईप  भी बिना आधार वेरिफिकेशन के काम नहीं करेगा. अब आपको अगर स्काईप विडियो कॉल करनी है तो पहले एप्प पर जाकर आधार वेरिफिकेशन करना पडेगा उसके बाद ही विडियो कॉल हो  पायेगी. 
फरवरी २०१७ में माइक्रोसॉफ्ट ने अपनी स्काइप ऐप का लाइट वर्जन लॉन्च किया था जिसे सस्ते ऐंड्रॉयड डिवाइसेज के लिए डिजाइन किया गया था. 


कम्पनी ने यह ऐलान भी किया था कि इस ऐप में २०१७ के बीच में आधार इंटिग्रेशन भी लाया जाएगा. अब आधार इंटिग्रेशन स्काइप लाइट ऐप पर शुरू हो गया है. इससे स्काइप यूजर उन विभिन्न परिस्थितियों में अन्जान कॉलरों की पहचान जान सकेंगे जहां यह बहुत ज़रूरी होती है. मसलन जॉब इंटरव्यू में, सामान और प्रॉपर्टी बेचने और खरीदने में. आगे देखिए, कैसे काम करेगी यह महत्वपूर्ण फंक्शनैलिटी. 


जब आप इस एप के जरिये किसी को कॉल करेंगे तो स्क्रीन पर उपर की और तीन डॉट्स दिखेंगे इन डॉट्स पर टैप कर आप अपना आधार वेरिफिकेशन करवा पायेंगें. टैप करने बाद आपसे १२ अंको का आधार न. माँगा जाएगा, इस न. को डालने के बाद आपके आधार रजिस्टर्ड मोबाइल पर एक OTP आयेगा इस छह अंक के OTP को डाल कर आप इस वेरिफिकेशन को पूरा कर पायेंगे. वेरिफिकेशन के 10 मिनट बाद तक आप की जानकारी स्क्रीन पर दिखेगी आप चाहे तो अपने कॉन्टेक्ट्स के साथ इस जानकारी को शेयर भी कर सकते हैं. विडिओ कॉल के दौरान आप दूसरे कॉलर से उसके आधार वेरिफिकेशन की जानकारियाँ भी माँग सकते हैं. 



स्मार्टफोन पर होंठ और पलक के इशारे से होगी बात

सांकेतिक फोटो: साभार गूगल इमेज 
स्मार्टफोन कितना स्मार्ट हो सकता है ये शायद आप कल्पना भी नहीं कर पायें, जर्मन के वैज्ञानिक एक ऐसे ईयर प्लग को विकसित कर रहें हैं जो आपके चेहरे की मांस पेशियों के खिंचाव को महसूस कर सकेगा और इसके जरिये आप अपने फोन पर कई कमांड दे पायेंगे जैसे मुस्कराने पर फोन उठाना या फिर मात्र पलक झपका कर गाना प्ले कर लेना. 
जर्मनी के रॉस्टॉक स्थित फ्रॉनहोफर इंस्टिट्यूट फॉर ग्रैफिक्स रिसर्च I.G.D के वैज्ञानिकों ने इयर फील्ड सेंसिंग(Ear.F.S) विकसित किए हैं, जो कि एक विशेष इयर प्लग के माध्यम से चेहरे के जेस्चर को पहचान लेते हैं, यह डिवाइस चेहरे की मूवमेंट के समय कान की मांसपेशियों में करंट और बदलाव को नाप लेगी. यह चेहरे या सिर की मांसपेशियों में होने वाले छोटे से छोटे बदलाव को भी समझ सकती है.


फ्रॉनहोफर I.G.D के वैज्ञानिक डेनिस मैथीस कहते हैं कि सबसे बड़ी चुनौती यह थी कि कई बार ये बदलाव बेहद छोटे होते हैं सेंसर्स को चलने या अन्य गतिविधियों से होने वाले वाइब्रेशन से फर्क नहीं पड़ता है. फोन के साथ जुड़ी इस डिवाइस के माध्यम से फोन रिसीव करने और गाने प्ले करने जैसे काम किए जा सकते हैं. ये इयर प्लग आपके कई अन्य भावों को भी पहचान सकता है जैसे थक जाने या सो जाने पर म्यूजिक प्लेयर को खुद बंद कर देगा. देखना है आम स्मार्ट फोन के साथ ये ईयर प्लग आप कब तक प्रयोग कर पायेंगे. 

ऑनलाइन फ्रॉड सारा पैसा वापस देंगें बैंक: आरबीआई

आज बैंको में ऑनलाइन फ्रॉड आम बात है, आये दिन ऐसी घटनाएँ सामने आती रहती है. अब भारतीय रिजर्व बैंक ने नई गाइडलाइन जारी कर आम लोगों के लिए बड़ी राहत की घोषणा की है. अब आपके बैंक खाते में ऑनलाइन फ्रॉड के दौरान नुक़सान होने पर अब खामियाज़ा आपका बैंक उठाएगा. इसके लिए ऑनलाइन फ्रॉड के तीन दिन के भीतर बैंक से शिकायत करनी होगी. जिस दिन आप शिकायत करेंगे, उसके 10 दिन के भीतर अंदर वह रकम आपके खाते में क्रेडिट हो जाएगी.

लालू और सीबीआई जुगलबन्दी क्या है? पढिये यहाँ.

अगर कस्टमर थर्ड पार्टी फ्रॉड की जानकारी देने में 3 दिन से ज़्यादा का वक्त लेता है तो उसे 25,000 रुपये तक का नुकसान खुद उठाना पड़ेगा. इंटरनेट बैंकिंग वाले कस्टमर्स के अकाउंट और कार्ड से अनअथॉराइज्ड ट्रांजैक्शन के बढ़ते मामलों को देखते हुए आरबीआई ने ये गाइडलाइन जारी किया है.
हालांकि अगर अकाउंट होल्डर किसी से अपना पासवर्ड या ओटीपी शेयर करता है और उसके बाद फ्रॉड का मामला सामने आता है तो उसे ख़ुद पूरा नुकसान उठाना पड़ेगा. ऑनलाइन फ्रॉड की घटनाओं से बचने के लिए आरबीआई ने हर ट्रांजैक्शन पर एसएमएस और ईमेल अलर्ट जरूरी कर दिया है. साथ ही अलर्ट पर एक रिप्लाई का ऑप्शन भी होगा. अब देखना ये है कि कब से ये गाइडलाइन प्रभावी होती हैं. 
अगर ऐसा हुआ तो ऑनलाइन फ्रॉड के कारण जिन लोगों की कमाई डूब जाती है उन्हें काफी राहत मिलेगी. 


इधर भी ध्यान दें 

अब लालू और सीबीआई: तेरा साथ ना छोड़ेंगे

लालू और सीबीआई में अब चोली दामन का साथ दिख रहा है, तमाम जमीन के मामलों में जहां पूरा परिवार फंसा है, वही अब उनके रेलमंत्री काल में किये गये होटल आबंटन को लेकर कल रात से सीबीआई कई स्थानों पर छापेमारी कर रही है. जहां भाजपा के नेता सुशील मोदी लालू को लेकर रोज नये खुलासे कर रहें हैं वहीं दूसरी और नितीश भी लालू से दूरी बनाते दिख रहे हैं. बिहार में लालू और नितीश की मिलीजुली सरकार है, जिसमें संख्या बल लालू की पार्टी राजद का ही है. लेकिन राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष का साथ छोड़ भाजपा के साथ नितीश के समर्थन को कई नये अर्थों में देखा जा रहा है. अब भाजपा और नितीश दोनों मिलकर एक बार फिर लालू को कमजोर करने की पुरजोर कोशिश कर रहें हैं, वैसे भी इस वक्त सारे देश में विपक्ष को तोड़ने का काम मोदी और उनकी टीम बखूबी कर रही है. कहीं ये काम राज्यपालों के माध्यम से किया जा रहा है तो कहीं सीबीआई के माध्यम से, खैर घोटाला हुआ है तो जांच होनी चाहिए और दोषियों को कड़ी सजा भी मिलनी चाहिए लेकिन यहाँ तो सिर्फ छापों का खेल हो रहा है, छापे पड़ते हैं फिर पता नहीं क्या होता है? नोटबंदी के समय और उसके बाद भी करोड़ों रूपये छापों में मिले किसका क्या हुआ पता नही?

ताजा मामला रेलवे (आई आर सी टी सी) के एक होटल का रख रखखाव एक प्राइवेट कंपनी को देने का है, सीबीआई ने लालू प्रसाद यादव, उनकी पत्नी राबड़ी यादव, बेटे समेत कई अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज किया है. इसके अलावा जांच एजेंसी ने दिल्ली, पटना, रांची, पुरी और गुरुग्राम समेत 12 ठिकानों पर छापेमारी की है.

लालू, उनकी पत्नी राबड़ी देवी और बेटे तेज प्रताप के अलावा दो कपंनियों के डायरेक्टरों के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया है. लालू पर आरोप है कि रेलमंत्री रहने के दौरान उन्होंने रांची और पुरी समेत अन्य रेलवे होटलों के विकास और मरम्मत का ठेका निजी कंपनियों को दिया था. तत्कालीन रेल  मंत्री लालू यादव ने सुजाता होटल्स प्राइवेट लिमिटेड को ठेका दिया था. रांची और पुरी स्थित दो बीएनआर होटलों के रखरखाव, निर्माण और देखभाल का जिम्मा सुजाता  होटल्स प्राइवेट लिमिटेड को दिया गया था.

सीबीआई ने जिन दो कंपनियों पर छापे मारे हैं, इनमें डिलाइट मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड, जो कि अब लारा प्रोजेक्ट प्राइवेट लिमिटेड के नाम  से रजिस्टर्ड है. सुजाता होटल्स प्राइवेट लिमिटेड पर भी छापेमारी हुई है.
सीबीआई ने  लालू यादव, राबड़ी देवी, तेज प्रताप यादव और आईआरसीटीसी के तत्कालीन एमडी पी. के गोयल और सुजाता होटल्स प्राइवेट लिमिटेड के दो डायरेक्टरों विनय कोचर और विजय कोचर के साथ सरला गुप्ता के यहां छापेमारी की है. बता दें कि पटना सचिवालय के पास बीरचंद पटेल मार्ग पर स्थित सुजाता होटल्स प्राइवेट लिमिटेड के ठिकाने पर सीबीआई ने छापा मारा है. इसके साथ ही विनय और विजय कोचर की कंपनियों के विभिन्न पतों पर छापेमारी हुई है.

उत्तराखंड में शराब घर तक रोजगार कब्र तक

क्या बात है? उत्तराखंड जिसे लोग देवभूमि कहते हैं वहां शराब तो सरकार द्वारा होम डिलीवर की जा रही है लेकिन जवानी घुट-घुट मर रही है. पिछली सरकार ने जिन युवाओं को रोजगार दिया था अब जांच के नाम पर उनको भी सडकों पर ला दिया गया ही, अशासकीय विद्यालयों में जो भी नियुक्तियां हुयी थी या होनी थी सब पर रोक लगा दी गयी है. पूर्व नियुक्तियां रद्द कर दी गयी हैं, जबकि हाल ये है कि इन विद्यालयों में तमाम पद खाली हैं, अब बात मेरिट के आधार पर नियुक्तियों की हो रही है, इसमें सीबीएसई बोर्ड से पढ़े विद्यार्थियों को फायदा होना तय है, मतलब ठेठ उत्तराखंडी जिसने उत्तराखंड बोर्ड से परीक्षाएं पास की हैं को घाटा होना है. क्या आप जवानों को सडकों पर ला सबका विकास कर पायेंगें?
यही हाल यूपी का है, पुरानी नियुक्तियां रद्द की जा रही हैं और नये नोटिफिकेशन जारी करने की हिम्मत जुटाना योगी और त्रिवेंद्र दोनों के लिए कठिन लग रहा है. देश के कुछ भागों में किसान आत्महत्या कर रहें हैं लेकिन अब भाजपा शासित इन दो राज्यों में युवा भी फांसी लगाने लगें तो कोई आश्चर्य नहीं किया जाना चाहिए.

यहाँ देखें कैसे और क्यों देंगें आपके पैसे वापिस आपके बैंक: ऑनलाइन फ्रॉड
सबका साथ सबका विकास अच्छा वाक्य है, सुनने में अच्छा भी लगता है, लेकिन यहाँ तो सिर्फ विनाश है. स्लोगन कुछ यूं हो गया है, "सबको शराब, बिना रोजगार". २०१९ क्या जनता फिर वही गलती करेगी? कुछ बड़ा मुंह फाड़ने वालों के बहकावे में आयेगी? आप विदेशों में जितनी गाथा गानी है गा लो लेकिन हकीकत में ये भी देखो कि देश के एक बड़े युवा वर्ग को किस दोराहे पर ला खड़ा किया है यहाँ सिर्फ दो रास्ते हैं एक नशे का और दूसरा मौत का.

आप अपनी राजनीतिक दुश्मनी निभाते रहें ये भी राजनीति का एक पहलू है, लेकिन जनता को यूं ना मारो. किसान सड़कों पर, जवान सड़कों पर तो विकास कैसे होगा? सड़कों के गढ्ढे भले ही भर लो लेकिन पेट की भी सोचो.
कई युवाओं से जो उत्तराखंड और यूपी में आन्दोलनरत हैं सब ये कह रहें हैं हम थक गये हैं, कई तो अब आस छोड़ बैठे हैं अब जब रोजगार नहीं तो क्या? क्या अपराधी बनेंगे, नशा करेंगें या खुद मरेंगें इस सवाल का जवाब सरकार ही दे पाएंगी. 

(आशुतोष पाण्डेय)